welcome હાર્દીક સ્વાગત Welcome

આ બ્લોગ ઉપર આવવા બદલ આપનું હાર્દીક સ્વાગત છે.

આ બ્લોગ ઉપર સામાન્ય રીતે ઉંઝા સમર્થક લખાંણ હોય છે જેમાં હ્રસ્વ ઉ અને દીર્ઘ ઈ નો વપરાશ હોય છે.

આપનો અભીપ્રાય અને કોમેન્ટ જરુર આપજો.

www.vkvora.in
email : vkvora2001@yahoo.co.in
Mobile : +91 98200 86813 (Mumbai)
https://www.facebook.com/vkvora2001
https://www.instagram.com/vkvora/
www.en.wikipedia.org/wiki/User:Vkvora2001
Wikipedia - The Free Encyclopedia

Monday, 27 October 2014

વહાણના સઢમાંથી હવા નીકળી ગઈ છે. જહાજ ભંગાર થવાની તૈયારીમાં હતું. ડુબવાની તૈયારીમાં હતું. મહારાષ્ટ્રના મુખ્યમંત્રી માટે દીલ્લીના શાહઆલમ જે નક્કી કરશે એને પુરી તાકાતથી બાળ ઠાકરેનો પુતર ઉદ્ધવ ઠાકરે સાથ આપશે.....

વહાણના સઢમાંથી હવા નીકળી ગઈ છે. જહાજ ભંગાર થવાની તૈયારીમાં હતું. ડુબવાની તૈયારીમાં હતું. મહારાષ્ટ્રના મુખ્યમંત્રી માટે  દીલ્લીના શાહઆલમ જે નક્કી કરશે એને પુરી તાકાતથી બાળ ઠાકરેનો પુતર ઉદ્ધવ ઠાકરે સાથ આપશે.....




महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव में बीजेपी के अकेले सबसे बड़े दल के तौर पर उभरने के बाद अपने रुख में नरमी लाते हुए शिवसेना ने आज कहा कि उसकी पूर्व सहयोगी महाराष्ट्र में जिस किसी भी व्यक्ति को मुख्यमंत्री पद के लिए चुनेगी, वह उसका समर्थन करेगी।शिवसेना के मुखपत्र 'सामना' में संपादकीय में कहा है, 'देवेंद्र फडणवीस ने गडकरी से मुलाकात कर उनका आशीर्वाद लिया और गडकरी ने आरएसएस मुख्यालय जाकर सरसंघचालक का आशीर्वाद लिया। ये सारे आशीर्वाद काफी मायने रखते हैं और इसका फायदा भी होता है। लेकिन इन सबसे बढ़कर है जनता का आशीर्वाद। ऐसे में जनता का आशीर्वाद पाने वाले जिस भी नेता को बीजेपी महाराष्ट्र की कमान सौंपेगी, शिवसेना पूरी ताकत से उसका साथ देगी।'

इसमें आगे लिखा गया है, 'मुख्यमंत्री चाहे कोई भी हो, किसे बनाना है, यह फैसला बीजेपी के दिल्ली हाईकमान को करना है। ऐसे में राज्य के नेताओं को माथापच्ची करने से कोई फायदा नहीं होनेवाला।' पार्टी ने कहा कि केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी हालांकि इतने अनुभवी हैं कि वह राज्य को संभाल सकते हैं, लेकिन अंतिम निर्णय दिल्ली में आलाकमान द्वारा किया जाएगा।

चुनाव प्रचार के वक्त मोदी और बीजेपी की जमकर आलोचना करने वाली शिवसेना अब मोदी की तारीफ कर रही है। पार्टी की मानें तो महाराष्ट्र में अगर बीजेपी की सीटें बढ़ीं हैं और पार्टी बहुमत के करीब पहुंची है तो इसका सारा श्रेय मोदी और अमित शाह को जाता है। लिहाजा महाराष्ट्र का 'वड़ा प्रधान' यानी मुख्यमंत्री कौन होगा, यह तय करने का अधिकार भी मोदी और शाह को ही है।

इसमें आगे कहा गया है, 'बीजेपी के चुनाव जीतने और भ्रष्ट कांग्रेस व एनसीपी को सत्ता से हटाए जाने पर हमें खुशी है। इन दोनों दलों के सत्ता से हटने से राज्य को फायदा होगा।' 

बीजेपी के केंद्रीय पर्यवेक्षक, गृह मंत्री राजनाथ सिंह और जे पी नड्डा मुंबई में कल होने वाली बीजेपी की विधायक दल की बैठक में शामिल होंगे और राज्य का नया मुख्यमंत्री चुनेंगे। 


૨. વીવીધ સમાચાર પત્રોમાં આવેલ સમાચારના મથાળા છે જે ગુગલ મારાજની મેરબાનીથી મળેલ છે.



૩. કમળના સરોવર પાસેથી વાઘ પસાર થઈ રહ્યો છે. 
આમતો  ફોટામાં આખો વાઘ હતો મેં ઉપરનો ભાગ કાપી નાખેલ છે.



૪. ચાર - પાંચ જણાં વાઘની ચામળી પકડી પંચનામુ કરી રહ્યા છે.

6 comments:

  1. http://navbharattimes.indiatimes.com/metro/mumbai/politics/shiv-sena-should-sit-in-opposition-says-bharatkumar-raut/articleshow/44941941.cms

    बीजेपी को समर्थन देने पर शिव सैनिकों में फूट!

    इकनॉमिक टाइम्स| Oct 27, 2014, 12.07AM IST

    कृष्ण कुमार, मुंबई

    शिव सैनिक नाराज हैं कि उनकी पार्टी बीजेपी के साथ मिलकर सरकार बनाने जा रही है। विरोध जताने के लिए वे पोस्टरों और बिल बोर्ड्स का सहारा ले रहे हैं। इनमें शिव सैनिकों ने अपने नेताओं से 'आत्मसम्मान' बचाने की अपील की है। उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र में बीजेपी की लीडरशिप में बनने वाली सरकार में शिव सेना को शामिल नहीं होना चाहिए। सेवड़ी जैसे शिव सेना के गढ़ माने जाने वाले इलाकों में पिछले दो दिनों में ऐसे पोस्टर्स और बिल बोर्ड्स बड़ी संख्या में लगे हैं।

    एक्सपर्ट्स का कहना है कि शिव सैनिकों की ओर से पार्टी लीडरशिप से इस तरह के सवाल पूछने का यह शायद पहला मामला है। उन्होंने ठाकरे परिवार के फैसलों का कभी भी खुलकर विरोध नहीं किया है। उनके मुताबिक, इससे पता चलता है कि बीजेपी के साथ मिलकर सरकार बनाने को लेकर शिव सेना कार्यकर्ताओं में कितनी नाराजगी है। अप्रैल तक राज्यसभा में शिव सेना के सांसद रहे भरत कुमार राउत ने ट्वीट किया, 'उम्मीद करता हूं कि शिव सेना नेता संकेत को समझेंगे और विपक्ष में बैठेंगे।'

    राउत का कहना है कि शिव सेना सिर्फ झुक नहीं रही है बल्कि बीजेपी उसे रेंगने को मजबूर कर रही है। शिव सेना को पसंद का पोर्टफोलियो नहीं मिल रहा है और न ही मंत्रियों की संख्या तय करने के मामले में उसकी चल रही है। इसके बावजूद शिव सेना बीजेपी के साथ मिलकर सरकार बनाना चाहती है। उसकी वजह यह है कि पार्टी के कुछ नेता सत्ता चाहते हैं। राउत का अभी शिव सेना से कोई रिश्ता नहीं है। उन्होंने कहा कि वह बीजेपी के हाथों शिव सेना को इतनी शर्मिंदगी उठाते देखकर हैरान हैं।
    राउत के मुताबिक, 'शिव सेना विपक्ष में क्यों नहीं बैठ सकती? पार्टी के कुछ नेता मंत्री बनना चाहते हैं। कुछ को सरकारी बॉडीज में अपॉइंटमेंट की उम्मीद है। लेकिन क्या पार्टी इसकी इतनी ज्यादा कीमत चुकाने को तैयार है? अगर बाल ठाकरे जीवित होते तो पार्टी को यह मंजूर होता!'


    राउत के मुताबिक, शिव सेना को बीएमसी के लिए बीजेपी के सपोर्ट की जरूरत है। इसलिए उद्धव ठाकरे शायद बीजेपी से हाथ मिलाना चाहते हों। राउत ने बताया, 'बीएमसी शिव सेना के लिए ऑक्सिजन की तरह है। अगर सेना के पास बीएमसी की सत्ता नहीं होगी तो उसके लिए वजूद बनाए रखना मुश्किल हो जाएगा।' कई शिव सैनिकों ने कहा कि वे पार्टी के बीजेपी के साथ मिलकर सरकार बनाने से खुश नहीं हैं।

    साउथ मुंबई से एक सेना शाखा प्रमुख ने कहा, 'हमने बीजेपी के साथ इन चुनावों में जबर्दस्त जंग लड़ी है। हमने एक दूसरे के बारे में क्या कुछ नहीं कहा है। अब हम एक साथ होने जा रहे हैं। यह ठीक नहीं है। हमें सुनने को मिल रहा है कि दिल्ली में हमारे नेताओं के साथ बीजेपी को बात करने का समय तक नहीं मिला। ऐसे में हम खुश कैसे हो सकते हैं?'

    ReplyDelete
  2. http://maharashtratimes.indiatimes.com/maharashtra/mumbai/Shivsena-BJP/articleshow/44945595.cms

    मटा ऑनलाइन वृत्त । मुंबई

    'धाकटा भाऊ' बनून महाराष्ट्राच्या सत्तेत निमूटपणे भाजपला साथ देण्याचे स्पष्ट संकेत आज शिवसेनेने दिले. भाजपने महाराष्ट्रात कोणालाही 'गडकरी' बनवू दे शिवसेना हिमतीने आणि हिकमतीने त्याला साथ देईल, अशी 'शरणागती'ची भूमिका शिवसेना पक्षप्रमुख उद्धव ठाकरे यांनी घेतली आहे. मुख्यमंत्रिपदासाठी नितीन गडकरी हे सर्वात उजवे असल्याची पावतीही त्यांनी दिली आहे.

    शिवसेनेचे मुखपत्र 'सामना'च्या अग्रलेखात उद्धव यांनी भाजपच्या महाराष्ट्रातील यशाबद्दल स्तुतीसुमनांची उधळण केली आहे. विधानसभा निवडणुकीच्या प्रचारादरम्यान शिवसेना-भाजपमध्ये 'वाकयुद्धा' रंगलं होतं. त्यावर 'निवडणुकांत दोन द्यायचे व दोन घ्यायचे असतात. ज्याला हे जमत नाही त्याने घरी बसावे', अशी सारवासारव उद्धव यांनी केली आहे. 'काँग्रेस-राष्ट्रवादीच्या घोटाळेबाजांना सत्ता मिळण्यापेक्षा भाजपला ती मिळतेय यातच राज्याचे हित आहे', अशा शब्दांत त्यांनी भाजपचा चेहरा स्वच्छ असल्याचीही पावती दिली आहे.

    देवेंद्र फडणवीसांनी गडकरींचे आशीर्वाद घेतले तर गडकरींनी सरसंघचालकांचे आशीर्वाद घेतले हे आशीर्वाद मोलाचेच आहेत पण, जनतेने दिलेले आशीर्वाद 'लाख'मोलाचे आहेत, असे नमूद करताना जनतेच्या आशीर्वादाचे सोने करून महाराष्ट्राचा रथ पुढे नेणारा कोणीही असू द्या, शिवसेना त्यास साथ देईल. शिवरायांचे राज्य टिकावे, वाढावे व राष्ट्राला प्रेरणादायी ठरावे हीच आमची भूमिका आहे. खोट्यानाट्या बातम्या पसरवून शिवसेनेला बदनाम करण्याचा प्रयत्न सध्या सुरू आहे. ज्या कुणास हे उद्योग करायचे आहेत त्यांचा आनंद औटघटकेचा ठरल्याशिवाय राहणार नाही. शिवसेनेच्या वाघाला डिवचू नका, अशा शब्दांत मीडियावरची नाराजीही त्यांनी बोलून दाखवलीय.

    मोदी गडकरींना 'रजा' देतील काय?

    मुख्यमंत्रिपदासाठी गडकरी, फडणवीस, जावडेकर, तावडे, खडसे, पंकजा मुंडे अशी बरीच नावे असली तरी फडणवीस व गडकरी यांच्यातच खरी चुरस आहे. अनुभव आणि आवाका याचा विचार करता आजमितीस गडकरी हे गुणवत्तेवर उजवे ठरतात. पण केंद्रीय मंत्रिमंडळातून मोदी हे गडकरी यांना 'रजा' देतील काय? महत्त्वाची खाती गडकरी सांभाळत आहेत व मोदी यांच्या यशाचे मिशन बर्‍याच प्रमाणात गडकरी यांच्या कामांवर अवलंबून आहे. गडकरी यांना महाराष्ट्र चांगलाच माहीत आहे व त्यांच्याकडे विकासाचे 'व्हिजन' आहे. दुसर्‍या बाजूला फडणवीस यांना प्रत्यक्ष मंत्रीपदाचा अनुभव नाही व राज्यकारभार त्यांनी हाकलेला नाही. हे खरे असले तरी विधिमंडळातील त्यांचा अनुभव दांडगा आहे व दिल्लीचे त्यांना 'गो अहेड' आहे, अशी दोन्ही नेत्यांबाबत मधाळ भाषा सामनाने वापरली आहे.

    कौतुक आणि सल्ला

    > महाराष्ट्राने जाती, पोटजाती व प्रांतानुसार स्वत:चीच शकले पाडून घेऊ नयेत व सर्व जातीभेद, मतभेद गाडून एकसंध राहावे हीच आमची भूमिका आहे. त्यामुळे 'भाजप' मुख्यमंत्री म्हणून ज्या नेत्यास राज्याची सूत्रे देईल त्यास महाराष्ट्राच्या अखंडतेसाठी प्रसंगी राजकीय भूमिका बाजूला ठेवून काम करावे लागेल.

    > अस्सल 'वैदर्भी' असलेले गडकरी अखंड महाराष्ट्राची सेवा करण्यास इच्छुक आहेत, पण महाराष्ट्राचा 'वडा प्रधान' कोणी व्हायचे ते ठरविण्याचा अधिकार मोदी व शहा यांनाच आहे. राज्यात भाजपच्या जागा वाढल्या व ते बहुमताच्या जवळ पोहोचले ते केवळ मोदी-शहा यांच्यामुळेच.

    > आमचे हिंदुत्व सगळ्यांनाच कवचकुंडलाप्रमाणे ठरले असतानाही ज्या प्रकारचे मतदान 'विशिष्ट' समाज असलेल्या भागात झाले तो चिंतेपेक्षा चिंतनाचा विषय जास्त आहे. पण निवडणुका म्हटल्या की, हे जातीय पेच व प्रांतीय डावपेच आता पडायचेच हे सत्य स्वीकारावे लागेल.

    > एकनाथ खडसे हे जुनेजाणते आहेत. उत्तर महाराष्ट्रातून भाजपास चांगल्या जागा मिळाल्या. त्यामुळे खडसेसमर्थक आमदार नाथाभाऊंचा आग्रह धरीत असतील तर तो त्यांचा प्रश्‍न आहे.

    > पंकजा मुंडे-पालवे यांनाही असे वाटते की, राज्याचे मुख्यमंत्रीपद त्यांना मिळावे. मराठवाड्यातील मोठ्या वर्गाने गोपीनाथरावांच्या प्रेमापोटीच भाजपच्या पारड्यात मते टाकल्याचे बोलले जाते. त्यामुळे पंकजाताईंचे मन व भावनाही महत्त्वाच्या आहेत.

    ReplyDelete
  3. अब तक महाराष्ट्र में कौन-कौन रहा है सीएम?

    कांग्रेस से- यशवंतराव चव्हाण, मारोतराव कन्नमवार, पी.के. सावंत, वसंतराव नाईक, शंकरराव चव्हाण, वसंतदादा पाटील, अब्दुल रहमान अंतुले, बाबासाहेब भोसले, शिवाजीराव पाटील निलांजेकर, सुधाकरराव नाईक, विलासराव देशमुख, सुशील कुमार शिंदे, अशोक चव्हाण और पृथ्वीराज चव्हाण


    पुरोगामी लोकशाही आघाडी से- शरद पवार


    शिवसेना से- मनोहर जोशी, नारायण राणे

    ReplyDelete
  4. http://navbharattimes.indiatimes.com/articleshow/43790772.cms


    BJP राजनीति की दीमक है: राज ठाकरे
    29 Sep 2014, 1203 hrs IST,नवभारत टाइम्स
    raj tha
    एमएनएस की पहली चुनावी सभा के दौरान एमएनएस प्रमुख राज ठाकरे
    विशेष संवाददाता, मुंबई
    एमएनएस की पहली चुनावी सभा में बोलते हुए एमएनएस के अध्यक्ष राज ठाकरे न केवल-कांग्रेस बल्कि शिवसेना-बीजेपी पर शाब्दिक प्रहार किए। रविवार को कांदिवली से एमएनएस के उम्मीदवार अखिलेश चौबे के प्रचारार्थ आयोजित अपनी पहली चुनावी सभा को संबोधित करते हुए राज ने कहा कि अगर आज शिवसेनाप्रमुख बालासाहेब ठाकरे जीवित होते तो शिवसेना का अपमान करने वाली बीजेपी को लात मारकर दूर कर देते। राज ठाकरे ने कहा कि बीजेपी एक अविश्वसनीय पार्टी है। उन्होंने कहा कि एमएनएस के नेताओं को हाइजैक करते वक्त बीजेपी नेताओं को शर्म नहीं आई।

    बीजेपी मेरा उपकार भूल गई
    राज ने कहा कि पिछले विधानसभा चुनाव में बीजेपी के अतुल भातखलकर और सदाशिव लोखंडे एमएनएस में आने को तैयार थे, लेकिन मैंने उन्हें समझा बुझाकर बीजेपी में ही रहने को कहा था और बीजेपी नेता नितिन गडकरी को फोन करके सारे मामले से अवगत कराया था। लेकिन बीजेपी इस बात को भूल गई और एमएनएस के नेताओं को हाइजैक करने में उन्हें जरा भी शर्म नहीं आई। राज ने कहा कि बीजेपी राजनीति की दीमक है। जो कोनों से खोखला करती है। मैं बीमार हूं मगर घर बैठकर राजनीति का तमाशा देख रहा हूं। 25 साल पुराना गठबंधन टूट गया पर शिवसेना ने बीजेपी की सामने लाचारी दिखाई। शिवसेना की जगह मैं होता तो कब का बीजेपी को लात मार चुका होता।

    शिवसेना को भी लिया निशाने पर
    राज ने अपने भाषण में न सिर्फ बीजेपी को बल्कि शिवसेना के भी निशाने पर लिया। उन्होंने कहा कि युति टूट गई मगर इनकम सोर्स चालू रहे इसलिए बीएमसी में शिवसेना-बीजेपी का गठबंधन कायम है। केंद्रीय मंत्रिमंडल से भी शिवसेना ने इस्तीफा नहीं दिया। राज ने कहा कि शिवसेना का रामदास आठवले को उपमुख्यमंत्री पद का ऑफर देना हास्यास्पद है।

    स्वाभिमान क्या होता है दिखाऊंगा
    राज ठाकरे ने कहा कि महाराष्ट्र में इन दिनों जो राजनीतिक अराजकता मची है इसके चलते अगर किसी पार्टी को स्पष्ट जनादेश नहीं मिला तो महाराष्ट्र 15 साल पीछे चला जाएगा। अगर जनता में मुझे स्पष्ट जनादेश दिया तो स्वाभिमान क्या होता है मैं दिखाऊंगा। उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र को स्वायत्तता मिलनी चाहिए। महाराष्ट्र को केंद्र की जरूरत नहीं है।

    ब्लूप्रिंट ही मेरा वचन है
    राज ठाकरे ने अपने बहुचर्चित महाराष्ट्र के विकास के ब्लूप्रिंट का जिक्र करते हुए कहा कि एमएनएस का ब्लूप्रिंट ही मेरा वचन है। राज्य को बिजली पानी देने का वचन मैंने दिया है। एमएनएस की सत्ता आई तो दूसरे राज्यों से आने वालों पर नजर रखी जाएगी। सभी को सस्ते घर उपलब्ध कराए जाएंगे। अगर एमएनएस सत्ता में आई तो रोज बनने वाले नए झोपड़ों का आखिरी दिन होगा।

    ये नजदीक आने का संकेत तो नहीं
    राज ठाकरे ने जिस तरह से बीजेपी पर हमला बोला है उससे उन खबरों को बल मिल रहा है जिनमें चुनाव के बाद शिवसेना-एमएनएस के मिलकर सरकार बनाने की संभावनाएं व्यक्त की जा रही हैं। एमएनएस सूत्रों के हवाले से आ रही खबरों में कहा गया है कि दोनों पार्टियों के दूसरी पंक्ति के नेता चुनाव बाद बनने वाली स्थितियों पर विचार विमर्श कर रहे हैं। शिवसेना ने 286 सीटों पर और एमएनएस ने 250 से ज्यादा सीटों पर अपने उम्मीदवार खड़े किए हैं। सूत्र कह रहे कि अगर चुनाव के बाद दोनों पार्टियों के विधायकों की संख्या सरकार बनाने लायक हो गई तो दोनों मिलकर सरकार बनाने के लिए तैयार हो जाएंगे।

    ReplyDelete
  5. देवेंद्र फडनवीस को महाराष्ट्र में विधायक दल का नेता चुनकर बीजेपी ने अकेले सरकार बनाने की दिशा में कदम बढ़ा दिए हैं। समर्थन के बारे में शिवसेना के आगे बढ़-बढ़कर बयान देने के बाद भी बीजेपी ने उसे अभी तक तवज्जो नहीं दिया है। सूत्रों का कहना है कि बीजेपी नेतृत्व चाहता है कि शिवसेना के अध्यक्ष उद्धव ठाकरे पहले दिए गए अपने तीखे बयानों के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पार्टी अध्यक्ष अमित शाह से माफी मांगें।

    एक केंद्रीय मंत्री ने अंग्रेजी अखबार इंडियन एक्सप्रेस को बताया, 'बीजेपी-शिवसेना का गठबंधन तो तय है। बस समय की बात है, लेकिन हमें उन्हें प्रधानमंत्री और अमित शाह के ऊपर की गई बयानबाजी को लेकर नाराजगी का अहसास कराना चाहते हैं। उन्हें माफी मांगनी पड़ेगी।'

    चुनाव प्रचार के दौरान उद्धव ठाकरे ने बीजेपी के स्टार प्रचारकों को अफजल खान की औलाद के समान बताया था। तुलजापुर में एक रैली को संबोधित करते हुए उद्धव ने कहा था, 'वे क्या चाहते हैं? पहले मोदी आए और अब उनकी पूरी कैबिनेट महाराष्ट्र में प्रचार करने आ गई। वे अफजल खान की औलाद की तरह हैं और राज्य को फतह करना चाहती हैं।'

    इसके अलावा चुनाव प्रचार थमने के अगले दिन शिवसेना मुखपत्र 'सामना' में छपे लेख से भी बीजेपी नेतृत्व आहत है। इसमें लिखा गया था, 'लोकसभा में जीत के बाद बीजेपी ने शिवसेना को नजरंदाज कर दिया। यदि शिवसेना ने बीजेपी स्‍टाइल में ही लोकसभा चुनावों से पहले दांव मारा होता तो मोदी के बाप दामोदरदास भी बीजेपी को पूर्ण बहुमत नहीं दिला पाते।'

    सूत्रों का कहना है कि बीजेपी ने शिवसेना तक संदेश पहुंचा दिया है कि वह सार्वजनिक या निजी तौर से माफीनामा चाहती है। इसके साथ ही पार्टी यह भी चाहती है कि वह महाराष्ट्र में बीजेपी की सरकार को बिना शर्त समर्थन देने की घोषणा करे। देवेंद्र फडनवीस 31 अक्टूबर को मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम में मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने वाले हैं। पार्टी के एक नेता ने कहा कि हम नहीं चाहते हैं कि शिवसेना से तब तक गठबंधन किया जाए।

    बीजेपी के महासचिव जे पी नड्डा ने कहा शिवसेना के साथ गठबंधन को लेकर बातचीत जारी है। बीजेपी के सूत्रों का मानना है कि एनसीपी के बाहर के समर्थन से सरकार चलाने के बजाय शिवसेना के साथ गठबंधन लंबे समय में पार्टी के लिए फायदेमंद रहेगा। इसके अलावा एनसीपी के साथ जाने से पार्टी की छवि को भी नुकसान पहुंचेगा।

    फडनवीस खुद ने भी चुनाव प्रचार के दौरान एनसीपी के दागी मंत्रियों के खिलाफ अभियान चालाया था। इसके साथ ही बीजेपी इस बार शरद पवार के गढ़ माने जाने वाले पश्चिम महाराष्ट्र में सेंध लगाने में कामयाब रही है। ऐसे में एनसीपी को लेकर नरम रुख उस इलाके में पार्टी कार्यकर्ताओं के उत्साह को ठंडा कर सकता है।

    ReplyDelete
  6. महाराष्ट्र में BJP सरकार के शपथ ग्रहण का बॉयकॉट करेगी शिव सेना
    30 Oct 2014, 1825 hrs IST,नवभारतटाइम्स.कॉम
    Situation created by BJP is humiliating: Shiv Sena MP Vinayak Raut
    शिव सेना नेता विनायक राउत
    मुंबई

    महाराष्ट्र में शिव सेना ने ऐन मौके पर दवाब बढ़ाते हुए देवेंद्र फड़णवीस के नेतृत्व में बीजेपी सरकार के शुक्रवार को होने वाले शपथ ग्रहण समारोह के बॉयकॉट का ऐलान किया है। शिव सेना ने कहा कि उसका कोई भी विधायक शपथ ग्रहण समारोह में शामिल नहीं होगा।

    शिव सेना ने दोनों दलों के रिश्तों में बढ़ी तल्खी के लिए सीधे-सीधे बीजेपी को जिम्मेदार ठहराया है। शिव सेना ने कहा कि बीजेपी ने जो हालात बना दिए हैं, वे बेहद अपमानजनक हैं।

    शिव सेना नेता विनायक राउत ने कहा, 'जिस समारोह में शिव सेना का मान-सम्मान नहीं है, उस समारोह में हमें क्यों जाना चाहिए?' उन्होंने कहा कि शिव सेना के विधायकों के मन में यह बात है और वे नाराज हैं।'

    राउत ने कहा कि नई सरकार में शिव सेना की क्या भूमिका रहेगी, इस बारे में फैसला करने के लिए अभी कुछ वक्त बाकी है। इस बारे में शिव सेना प्रमुख उद्धव ठाकरे फैसला करेंगे।

    महाराष्ट्र के राज्यपाल सी. विद्यासागर राव वानखेड़े स्टेडियम में 44 वर्षीय फड़णवीस को शपथ ग्रहण कराएंगे। इस कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, उनके मंत्रिमंडल के कई सहयोगी, बीजेपी शासित राज्यों के मुख्यमंत्री, जाने-माने उद्योगपति, बॉलिवुड के साथ ही अन्य क्षेत्रों की प्रमुख हस्तियां मौजूद रहेंगी।

    इस शपथ ग्रहण कार्यक्रम में करीब 10 मंत्रियों के एक छोटे से मंत्रिमंडल के शपथ ग्रहण करने की उम्मीद है जिसमें प्रदेश बीजेपी कोर कमिटी के सदस्य एकनाथ खड़से, सुधीर मुगंतीवार, विनोद तावड़े और पंकजा मुंडे शामिल हो सकते हैं। इसके साथ ही अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजति से आने वाले विधायकों के भी शपथ लेने की उम्मीद है।

    ReplyDelete

કોમેન્ટ લખવા બદલ આભાર

Recent Posts