welcome હાર્દીક સ્વાગત Welcome

આ બ્લોગ ઉપર આવવા બદલ આપનું હાર્દીક સ્વાગત છે.

આ બ્લોગ ઉપર સામાન્ય રીતે ઉંઝા સમર્થક લખાંણ હોય છે જેમાં હ્રસ્વ ઉ અને દીર્ઘ ઈ નો વપરાશ હોય છે.

આપનો અભીપ્રાય અને કોમેન્ટ જરુર આપજો.



https://www.vkvora.in
email : vkvora2001@yahoo.co.in
Mobile : +91 98200 86813 (Mumbai)
https://www.instagram.com/vkvora/

Tuesday, 1 December 2020

मुंबई हमला 26/11: वकील की हत्या, गुज़रे 12 साल, 19 अभियुक्त फ़रार (From BBC Hindi)

21 नवंबर, 2008 की शाम ढलते ही, 10 युवाओं को थाटा ज़िले के काटी पोर्ट के पास एक घर में लाया गया. अज़ीज़ाबाद नाम की यह जगह कराची से लगभग 100 किलोमीटर दूर है, यहां उन्हें 'मिशन' के बारे में बताया गया. कई महीनों के प्रशिक्षण के बाद, ये लोग अब 'मिशन' को पूरा करने के लिए तैयार थे. मुंबई हमलावरों में एकमात्र ज़िंदा पकड़े जाने वाले अजमल कसाब के कबूलनामे के अनुसार, अगले ही दिन, यानी 22 नवंबर को, उन लोगों को विभिन्न लक्ष्यों के नक्शे और उनके बारे में आख़िरी ब्रीफिंग दी गई. शाम सात बजे उन्हें एक बड़ी नाव में केटी बंदर के पास ले जाया गया, जहां से वे आत्मघाती हमले के लिए रवाना हुए. भारतीय जाँच एजेंसियों का कहना है कि यही वह जगह थी, जहां हमलावरों ने अपनी मंज़िल तक पहुँचने के लिए जीपीएस का भी इस्तेमाल किया था. .......
पाकिस्तान की प्रमुख जाँच एजेंसी एफआइए के पूर्व महानिदेशक तारिक़ खोसा ने मार्च 2015 में डॉन अख़बार में प्रकाशित अपने एक लेख में लिखा था कि थाटा ही वह जगह है जहां मुंबई हमलावरों को प्रशिक्षित किया गया था और यहीं से उन्हें मुंबई भेजा गया था. .............. पाकिस्तान का कहना है कि उसके जांचकर्ताओं को कभी अजमल कसाब तक पहुंचने नहीं दिया गया इसलिए उसके इक़बालिया बयान की सच्चाई पर यकीन नहीं किया जा सकता. इसके साथ ही पाकिस्तान यह भी कहता रहा है कि भारत ने पाकिस्तान को उन नौ हमलावरों के विवरण उपलब्ध नहीं कराया जो मुंबई में मारे गए थे, पाकिस्तान की दलील है कि अगर जानकारी मिलती तभी उनके पाकिस्तानी होने के दावे की पुष्टि की जा सकती थी. पाकिस्तान के तत्कालीन गृह मंत्री रहमान मलिक ने 12 फरवरी, 2009 को इस्लामाबाद में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया था कि मुंबई हमले में शामिल हमलावर पाकिस्तान से ही भारत गए थे लेकिन उनके पास उनकी पहचान और परिवार के बारे में जानकारी उपलब्ध नहीं थी. उन्होंने कहा कि हमलावर कराची से एक नाव पर निकले थे जो बलूचिस्तान से मंगवाई गई थी. उन्होंने कहा कि प्रारंभिक जांच में पता चला है कि हमलावर थाटा, सिंध से समुद्र के रास्ते भारत गए थे लेकिन इसकी भी जांच होनी चाहिए कि वे वहां (मुंबई) तक कैसे पहुंच गए. पाकिस्तान के मोस्ट वांटेड आतंकवादियों पर हाल ही में प्रकाशित एफ़आईए रेड बुक में 2008 के मुंबई हमले के मामले में फ़रार अभियुक्तों का पूरा विवरण है. बीबीसी इस रेड बुक तक पहुंची है. ये आरोपी मुंबई हमले मामले में आपराधिक साजिश, आतंकवादियों को वित्तीय और लॉजिस्टिक सहायता देने जैसे आरोपों में लिप्त बताए गए हैं. इन लोगों को पिछले एक दशक से फरार चल रहे दहशतगर्दों को इस सूची में शामिल किया गया है लेकिन आज तक पाकिस्तान की जांच एजेंसियां किसी को नहीं पकड़ सकी है. ........... अजमल कसाब के इक़बालिया बयान के अनुसार 23 नवंबर को दोपहर 12 बजे, उन्होंने मछली पकड़ने वाली भारतीय नाव 'एमवी कोबर' को अगवा कर लिया. नाव पर सवार पांच लोगों में से चार की हत्या कर दी और नाव के कप्तान अमर सिंह सोलंकी को ज़िंदा छोड़ दिया गया. अल-हुसैनी नाव से सारा सामान उस भारतीय नाव में शिफ्ट करने के बाद, अमर सिंह से कहा गया कि वे नाव को चलाते रहें और उन्हें उनकी मंज़िल पर ले जाएं. तारिक़ खोसा के लेख के अनुसार, अल-हुसैनी नाव को बाद में पाकिस्तानी जांचकर्ताओं ने अपने क़ब्ज़े में ले लिया था. अजमल कसाब के इक़बालिया बयान के अनुसार, 26 नवंबर 2008 की शाम लगभग 4 बजे, दस हमलावर भारतीय समुद्री सीमा में घुस गए. जिसके बाद निर्देश के अनुसार नाव के कप्तान अमर सिंह सोलंकी की भी हत्या कर दी. बाकी यात्रा उन लोगों ने जीपीएस की मदद से ख़ुद तय की. 26 नवंबर की रात 8 बज कर 20 मिनट पर, ये लोग किनारे पर स्थित मछुआरों की एक बस्ती, बुधवार पार्क के पास उतरे, और अपने-अपने लक्ष्यों की तरफ रवाना हो गए. .... अजमल कसाब के इक़बालिया बयान के मुताबिक, 10 हमलावरों को दो-दो लोगों के पांच ग्रुपों में बांटा गया था. इस्माइल ख़ान इन सभी हमलावर ग्रुपों का लीडर था और उसके साथ दूसरा हमलावर अजमल कसाब था. ये दोनों एक टैक्सी में सवार हुए और 9 बज कर 20 मिनट पर भारत के सबसे व्यस्त रेलवे स्टेशन छत्रपति शिवाजी टर्मिनस पहुंचे, वहां पहुँचकर उन्होंने हैंड ग्रेनेड और एके-47 राइफ़लों से हमला कर दिया. इस हमले में 58 लोग मारे गए और दर्जनों घायल हुए. इस्माइल ख़ान और अजमल कसाब ने इसके बाद एक अस्पताल पर हमला किया, जिसमें कई लोग मारे गए और घायल हुए. गोरेगांव चौपाटी में पुलिस के साथ हुई मुठभेड़ में इस्माइल ख़ान की मौत हो गई, जबकि अजमल कसाब को ज़ख़्मी हालत में जिंदा गिरफ़्तार कर लिया गया. उस रात लगभग 10 बजे, अब्दुल रहमान और फ़हद नामक हमलावरों ने ओबेरॉय ट्राइडेंट होटल पर हमला किया, जिसमें 33 लोग मारे गए और कई अन्य घायल हो गए. 10 बज कर 25 मिनट पर, बाबर इमरान और नज़ीर ने एक यहूदी केंद्र, नरीमन हाउस पर हमला किया जिसमें चार लोग मारे गए और कई लोग घायल हो गए. लियोपोल्ड कैफ़े और बार पर हाफ़िज अरशद और नसीर नामक हमलावरों ने हमला किया जिसमें 10 लोग मारे गए. इसी तरह, शोएब और जावेद ने ताज होटल पर हमला किया जहां बाद में हाफ़िज अरशद और नसीर भी उनके साथ शामिल हो गए. ताज होटल पर हमले में 32 लोग मारे गए और कई अन्य घायल हो गए. हमलावरों ने कई स्थानों पर लोगों को बंधक बना लिया था इसलिए नई दिल्ली से एनएसजी कमांडो दस्ते को बुलाया गया था. मुंबई हमला 26 नवंबर को रात 9 बजकर 15 मिनट पर शुरू हुआ और तीन दिनों तक चलता रहा. भारतीय बलों ने 29 नवंबर को सुबह 9 बजे तक सभी हमलावरों को मारकर ऑपरेशन ख़त्म होने की घोषणा की. इस हमले में 26 विदेशियों सहित 166 लोग मारे गए और लगभग 300 घायल हो गए.
......... अजमल कसाब से पूछताछ के बाद पता चला कि हमलावर पाकिस्तान से आए थे और इनका संबंध प्रतिबंधित संगठन लश्कर-ए-तैबा से था. भारत ने आरोप लगाया कि हमलों की योजना लश्कर-ए-तैबा के प्रमुख हाफ़िज सईद ने बनाई और उनकी पार्टी के सदस्यों ने ही इसे अंजाम दिया. भारत ने हाफ़िज सईद सहित लश्कर के 35 सदस्यों की एक सूची तैयार की. भारत ने पाकिस्तान से कहा कि इन आरोपियों को भारत के हवाले किया जाए ताकि उनका ट्रायल किया जा सके. पाकिस्तान को भारत की कड़ी आलोचना का सामना करना पड़ रहा था जिसकी वजह से दो परमाणु शक्तियों के बीच युद्ध का माहौल बन रहा था. दूसरी ओर, पाकिस्तान शुरू में भारत के सभी आरोपों का खंडन करता रहा. पाकिस्तान यह भी कहता रहा कि भारत आरोपों के बजाय ऐसे सबूत उपलब्ध कराए जिससे यह साबित हो सके कि इन हमलों में पाकिस्तानी शामिल थे, या हमले की योजना पाकिस्तान में बनी थी, ताकि उन लोगों के ख़िलाफ़ यहां कार्रवाई की जा सके. इस बीच, पाकिस्तान ने आरोपों की जांच के एसआइटी का गठन किया जिसकी अध्यक्षता वरिष्ठ अधिकारी ख़ालिद क़ुरैशी ने की, जबकि जांच की देखरेख की जिम्मेदारी एफ़आईए के तत्कालीन डीजी तारिक़ खोसा को सौंपी गई थी. दिसंबर 2008 में पश्चिमी सहयोगियों और भारत की तरफ़ से उपलब्ध कराई गई जानकारी के बाद, एफआईए ने थाटा में लश्कर के एक प्रशिक्षण शिविर पर छापा मारा और सबूत ज़ब्त किए. ........ ....... पाकिस्तान के तत्कालीन गृह मंत्री रहमान मलिक ने 12 फरवरी, 2009 को मुंबई हमलों के ढाई महीने बाद इस्लामाबाद में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस की. प्रेस कॉन्फ्रेंस में रहमान मालिक ने बताया कि मुंबई हमलों की साजिश का कुछ हिस्सा पाकिस्तान में रचा गया लेकिन इसके कुछ सिरे अमरीका, ऑस्ट्रिया, स्पेन, इटली और रूस जैसे देशों में भी मिले हैं. उन्होंने कहा कि प्रारंभिक जांच रिपोर्ट के अनुसार, इंटरनेट के माध्यम से बात करने के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला डोमेन ह्यूस्टन (अमरीका) में पंजीकृत था जबकि इसके लिए 238 डॉलर स्पेन से ट्रांसफर किए गए थे. उन्होंने कहा कि इस्तेमाल किया गया दूसरा डोमेन रूस में पंजीकृत था जबकि एक सैटेलाइट फोन मध्य पूर्व के एक देश में पंजीकृत था. रहमान मलिक ने कहा कि 238 डॉलर भेजने वाला आरोपी जावेद इक़बाल था. जो उस समय बार्सिलोना, स्पेन में था. उसे वापस लाकर वित्तीय सहायता प्रदान करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है. रहमान मलिक ने कहा कि अजमल कसाब के बयान और भारत की ओर से मिली जानकारी के रौशनी में, एक एफ़आईआर दर्ज की गई है और इसमें नौ आरोपियों को नामज़द किय गया है. जिनमें अजमल कसाब उर्फ़ अबू मुजाहिद, ज़की-उर-रहमान लखवी, अबू हमज़ा, ज़रार शाह, मुहम्मद अमजद ख़ान, शाहिद जमील, हम्माद अमीन सादिक़ और अन्य शामिल हैं. रहमान मलिक ने कहा कि नामजद आरोपियों में से पांच को गिरफ्तार कर लिया गया है जिनमें मुंबई हमलों के कथित मास्टरमाइंड ज़की-उर-रहमान लखवी का नाम भी शामिल है. औकाड़ा निवासी ज़की-उर-रहमान लखवी को 18 फरवरी को गिरफ्तार किया गया था. रहीम यार ख़ान के हम्माद अमीन सादिक़ को 15 फरवरी को पकड़ा गया. इनके ऊपर मुंबई हमलावरों को धन और आश्रय देने के आरोप थे. इसी तरह, मंडी बहाउद्दीन के मज़हर इक़बाल को और शेखपुरा में कंप्यूटर नेटवर्क के विशेषज्ञ अब्दुल वाजिद को 18 फरवरी को गिरफ्तार किया गया था. गिरफ्तार होने वाले बहावलपुर के शहीद जमील रियाज़ को नावों की सुविधा देने का आरोप था. .............. एफआईए के पूर्व महानिदेशक और इस केस के निगरानी अधिकारी तारिक़ खोसा ने 2015 में डॉन अख़बार में प्रकाशित एक लेख में मामले की जांच के बारे में विस्तार से लिखा और कई महत्वपूर्ण पहलुओं पर भी प्रकाश डाला था. तारिक़ खोसा के अनुसार, (पहला) अजमल कसाब एक पाकिस्तानी था, जिसका आवास और स्कूली शिक्षा और फिर चरमपंथी संगठन (लश्कर-ए-तैयबा) में शामिल होने की बात का जांच अधिकारियों ने पता लगाया था. (दूसरे) लश्कर-ए-तैबा के आतंकवादियों को थाटा, सिंध के पास प्रशिक्षित किया गया था और बाद में वहीं से उन्हें समुद्री रास्ते से भेजा गया था. इस प्रशिक्षण शिविर का सुराग़ जांचकर्ताओं ने लगाया था. इसी तरह मुंबई हमलों में इस्तेमाल किए गए विस्फोटक के सैंपल न केवल प्रशिक्षण शिविर से बरामद किए गए थे, बल्कि वो मैच भी हो गए थे. (तीसरा) मछली पकड़ने वाली (अल-हुसैनी) नाव, जिसका उपयोग आतंकवादियों ने भारतीय बोट को अगवा करने के लिए किया था और बाद में इससे मुंबई के लिए रवाना हुए. अल हुसैनी को वापस बंदरगाह पर लाकर उसका रंग बदलकर छिपा दिया गया था. वो भी बरामद कर ली गई थी जो आरोपियों को इस केस से जोड़ती है. (चौथा) मुंबई बंदरगाह के पास आतंकवादियों की एक छोटी नाव के इंजन में एक पेटेंट नंबर था जिसके ज़रिये जांचकर्ताओं ने इसके जापान से लाहौर में आयात होने का पता लगाया. जहां से इसे कराची की एक खिलौनों की दुकान तक पहुंचाया गया था. इसके बाद यहां से इसे लश्कर से जुड़े एक चरमपंथी ने एक छोटी नाव के साथ ख़रीदा था. मनी ट्रेल को ट्रैक किया किया गया और आरोपी की पहचान की गई और उसे गिरफ्तार किया गया. ............... (पाँचवा) जांचकर्ताओं ने कराची में ऑपरेशन रूम की भी तलाशी ली और उसे सुरक्षित कर लिया. जहां से (मुंबई) ऑपरेशन के बारे में निर्देश दिए गए थे. ऑपरेशन रूम से वॉइस ओवर इंटरनेट प्रोटोकॉल के माध्यम से हो रही बातचीत का भी पता लगाया. (छठा) कमांडर माने जा रहे व्यक्ति और उसके अंडर काम करने वालों की पहचान की गई और उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया. (सातवां) एक दंपति को जिनके फाइनेंसर और सूत्रधार देश से बाहर थे, उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया और उन्हें मुक़दमे के लिए पेश किया गया. अपने इस लेख में, तारिक़ खोसा ने आगे लिखा है कि भारत ने अजमल कसाब को जीवित पकड़कर उसके कबूलनामे से इस केस को तार्किक निष्कर्ष पर पहुंचा दिया था लेकिन कई जगहों पर रची गई साजिश का पता लगाना एक चुनौती पूर्ण कार्य है जिसे प्रमाणित करने के लिए ठोस सबूतों की ज़रूरत होती है. बीबीसी के संपर्क करने पर एफआईए के पूर्व महानिदेशक तारिक़ खोसा ने टिप्पणी करने से इनकार कर दिया कि उन्हें जो कुछ कहना था वह अपने लेख में लिख चुके हैं अब कोई बात नहीं करना चाहते. ................... इन 19 फरार लोगों में से मुल्तान का निवासी मोहम्मद अमजद ख़ान है जिस पर मुंबई हमलों में इस्तेमाल की गई नाव ख़रीदने का आरोप था. इसके अलावा उसने कराची से एक यामाहा मोटरबोट इंजन, लाइफ जैकेटस भी खरीदे, जो बाद में मुंबई हमलों में इस्तेमाल किए गए थे जिन्हें बाद में भारतीय अधिकारियों ने बरामद किया था. इसके अलावा सूची में एक बहावलपुर निवासी शाहिद ग़फूर भी है, जो अल-हुसैनी नाव का कप्तान था. एफआईए रेड बुक के अनुसार, मुम्बई हमलों में आरोपी इफ्तिखार अली, अब्दुल रहमान, मोहम्मद उस्मान, अतीक़-उर-रहमान, रियाज़ अहमद, मोहम्मद मुश्ताक़, अब्दुल शकूर, मोहम्मद नईम, मोहम्मद साबिर सलफी और शकील अहमद, मुंबई हमलों में इस्तेमाल होने वाली नावों पर सवार थे. इसी तरह, मोहम्मद उस्मान जिया, मोहम्मद अब्बास नासिर, जावेद इक़बाल, मुख्तार अहमद और अहमद सईद इस सूची में शामिल वो आरोपी हैं, जिन्होंने पाकिस्तान प्रशासित कश्मीर के मुज़फ़्फ़राबाद के एक प्राइवेट बैंक से, आरोपी हम्माद अमीन सादिक़ और शहीद जमील रियाज़ के कराची में स्थित एक निजी बैंक खाते में, कुल 30 लाख से अधिक रुपये जमा किए गए थे. इसके अलावा, दाज़िन तुरबत जिले का आरोपी मोहम्मद ख़ान भी इस मामले में फरार है जिस पर आरोप है कि उसने मुंबई हमलों के आरोपियों को अल-हुसैनी नाव मुहैया कराई थी. रेड बुक के अनुसार, ये सभी आरोपी प्रतिबंधित संगठन लश्कर-ए-तैयबा के थे. एफआईए के रिकॉर्ड से यह भी पता चलता हैं कि सभी फरार अभियुक्तों में से एक के अलावा बाक़ी सभी पंजाब के विभिन्न जिलों से थे. ............ हमले के बाद 12 साल बीत चुके हैं लेकिन इस मामले की सुनवाई अब भी विभिन्न कारणों से लंबित है. इस दौरान आतंकवाद-विरोधी अदालत के कम से कम छह न्यायाधीशों और कई सरकारी वकीलों को बदल दिया गया. इस मामले में पहले सरकारी वकील (चौधरी जुल्फिकार अली, जो कि बेनजीर भुट्टो हत्याकांड मामले में भी वकील थे) की मई 2013 में रावलपिंडी में अज्ञात व्यक्तियों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी जिसके बाद मामले में वकील रब नवाज़ को अभियोजक नियुक्त किया गया था. दिल का दौरा पड़ने के कारण अधिवक्ता रब नवाज़ की अचानक मृत्यु के बाद, उनके स्थान पर अधिवक्ता अजहर चौधरी को अभियोजक के रूप में नियुक्त किया गया था लेकिन 2018 में उन्हें भी अचानक बदल दिया गया जिसके बाद अधिवक्ता अकरम क़ुरैशी को मामले में अभियोजक के रूप में नियुक्त किया गया. ..................... मामले के विशेष अभियोजक अकरम क़ुरैशी ने बीबीसी को बताया कि मामले की सुनवाई ऑन कैमरा चल रही है और अदालत ने उन्हें बात करने से मना किया हुआ था इसलिए वह बोलना नहीं चाहते थे. उन्होंने कहा कि वह सिर्फ इतना कहेंगे कि मामले की सुनवाई जल्द ही समाप्त हो जाएगी. ज़की-उर-रहमान लखवी के अलावा, अन्य आरोपी न्यायिक रिमांड पर जेल में हैं जबकि लखवी को ज़मानत मिल गई है. इस्लामाबाद हाइकोर्ट ने भी मुकदमे का फैसला जल्द करने का निर्देश दिया था. मुंबई हमलों के मुकदमे के एक पूर्व सरकारी वकील अजहर चौधरी ने बीबीसी को बताया कि वे सबूतों को जमा करने के लिए दो बार भारत गए थे. उन्होंने कहा कि "भारत ने पाकिस्तानी टीम को जेल में बंद अजमल कसाब से मिलने की इजाज़त नहीं दी जिससे उसके इक़बालिया बयान पर संदेह होता है". उन्होंने बताया कि भारत "यह तो अब सिर्फ आपराधिक साजिश का मामला रह गया है, जिसकी अधिकतम सज़ा सात साल है लेकिन आरोपी पिछले 11 साल से जेल में हैं." ................... ................

Thursday, 19 November 2020

Saturday, 14 November 2020

મુંબઈ - જન્મભૂમિ ગુજરાતી દૈનિક - શનિવાર ૧૪.૧૧.૨૦૨૦. મુખ્ય સમાચાર ....

મુંબઈ - જન્મભૂમિ ગુજરાતી દૈનિક - શનિવાર ૧૪.૧૧.૨૦૨૦. મુખ્ય સમાચાર ....

Saturday, 31 October 2020

ગોટનબર્ગ યુનીવર્સીટી - સ્વીડન - વી ડેમ ઈસ્ટીટ્યુટ દરવર્ષે લોકતંત્ર વીશે રીપોર્ટ બનાવે છે.

.... ગોટનબર્ગ યુનીવર્સીટી સ્વીડનની - વી ડેમ ઈસ્ટીટ્યુટ દરવર્ષે લોકતંત્ર વીશે રીપોર્ટ બનાવે છે. આપણાં વીશાળ દેશમાં લોકસભા વીધાનસભામાં દરવર્ષે એટલા બધા કમીશન અને કમીટીઓના રીપોર્ટ આવે છે કે લોકસભાના મુખ્ય સેક્રેટરીએ આ બધા માટે થતી કાર્યવાહીનો પણ એક રીપોર્ટ પ્રકાશીત કરેલ. બીબીસીએ લોકતંત્ર બાબત જે સમાચાર આપેલ છે એની લીંન્ક, વી ડેમ ઈસ્ટીટ્યુટ અને ગોટનબર્ગ વીદ્યાપીઠની લીંન્ક નીચે આપેલ છે. લી. વીકેવોરા... ... https://en.wikipedia.org/wiki/V-Dem_Institute https://en.wikipedia.org/wiki/University_of_Gothenburg https://www.bbc.com/hindi/india-54750832 ડેમોક્રેસી રીપોર્ટની પીડીએફ ફાઈલ નેટ ઉપરથી મળી શકે છે. https://www.v-dem.net/media/filer_public/de/39/de39af54-0bc5-4421-89ae-fb20dcc53dba/democracy_report.pdf ....

Monday, 26 October 2020

बाबरी मस्जिद विध्वंस केस: सुप्रीम कोर्ट और जस्टिस लिब्रहान को जो दिखा वो सीबीआई कोर्ट न देख पाई?

From : BBC Hindi.
------------------ --------------------- छह दिसम्बर 1992 को अयोध्या में बाबरी मस्जिद विध्वंस कुछ अराजक तत्वों के अचानक हमले का नतीजा था या सुनियोजित और संगठित प्रयास का परिणाम? इतिहास में यह सवाल हमेशा पूछा जाएगा. वेदों में कहा गया है कि सत्य का मुख सोने के पात्र से ढका हुआ होता है. सत्य की खोज श्रमसाध्य और अनवरत चलने वाली प्रक्रिया है. सत्य अलग-अलग कोण से अलग दिखता है और देखने वाले की नज़र से भी. मैं, बाबरी मस्जिद बनाम राम जन्मभूमि प्रकरण में एक दर्शक रहा हूँ. चालीस साल तो प्रत्यक्ष और उसके पहले की घटनाओं को फ़ाइलों और किताबों के ज़रिए जाना-समझा है. वास्तव में यह कहानी दिसम्बर 1949 से शुरू होती है, जब रात में पुलिस के पहरे के बीच मस्जिद में भगवान राम की मूर्तियाँ प्रकट हुईं या जैसा कि पुलिस रिपोर्ट में है कि "चोरी से रखकर मस्जिद को अपवित्र कर दिया गया." जवाब में कल्याण सिंह ने 31 जुलाई को पत्र लिखकर कहा कि ज़रूरी कार्यवाही हो रही है. इसके बाद कल्याण सरकार ने वहाँ मस्जिद के सामने ज़मीन और कई मंदिरों का अधिग्रहण कर हाइवे से चौड़ी सड़क बनवायी. साथ ही कांग्रेस सरकार ने बगल में राम कथा पार्क के लिए अधिग्रहीत 42 एकड़ ज़मीन विश्वहिंदू परिषद को दे दी. देश भर से आए कार सेवकों को छह दिसम्बर को तम्बू कनात लगाकर यहीं टिकाया गया. यहीं पर लाठी डंडों से लैस कारसेवकों ने पाँच दिसम्बर को रस्सियों, कुदाल और फावड़े लेकर टीले पर मस्जिद गिराने का रिहर्सल किया. इस तरह सीबीआई के मुताबिक़ बाबरी मस्जिद को गिराने का यह लम्बे समय से चला आ रहा सुनियोजित षड्यंत्र था. जिसमें संघ परिवार के विभिन्न संगठनों के अलावा शिव सेना के बड़े नेता शामिल थे. सीबीआई ने अपनी चार्जशीट पांच अक्तूबर 1993 को पेश कर दी. स्पेशल सेशंस कोर्ट ने क्या नोट किया? अयोध्या प्रकरण के लिए गठित स्पेशल सेशंस कोर्ट के जज जगदीश प्रसाद श्रीवास्तव ने नौ सितम्बर 1997 को अभियुक्तों के ख़िलाफ़ चार्ज फ़्रेम किए. जज ने अपने आदेश में रिकार्ड किया, "पाँच दिसम्बर को विनय कटियार के निवास पर गुप्त बैठक हुई जिसमें आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी, विनय कटियार और पवन पांडेय ने हिस्सा लिया और उसमें विवादित ढाँचे को गिराने का निर्णय लिया गया." इसी आदेश के अनुसार, "केंद्रीय पैरामिलिट्री फ़ोर्स की 195 कम्पनियां फ़ैज़ाबाद में केंद्रीय सरकार की तरफ़ से राज्य सरकार की क़ानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए भेजी गई लेकिन उनका भारतीय जनता पार्टी सरकार ने इस्तेमाल नहीं किया. जबकि पांच दिसंबर 1992 को राज्य के गृह सचिव ने केंद्रीय बल के प्रयोग के लिए सुझाव दिया था लेकिन कल्याण सिंह इससे सहमत नहीं हुए." अभियुक्तों ने आरोप तय करने के फ़ैसले के ख़िलाफ़ हाईकोर्ट में क्रिमिनल रिवीज़न याचिका दाखिल की. यह उल्लेख करना ज़रूरी है कि छह दिसम्बर को बाबरी मस्जिद ढहने के बाद अयोध्या में पुलिस ने दो मुक़दमे दर्ज किए थे. एक, लाखों अज्ञात कारसेवकों के ख़िलाफ़ मस्जिद तोड़ने के षड्यंत्र, बलवा, लूटपाट जैसे कई अपराधों के लिए और दूसरा धार्मिक उन्माद और कारसेवकों को भड़काने वाले भाषण देने के लिए. इसके अलावा 47 और मुक़दमे पत्रकारों पर हमले से संबंधित दर्ज हुए. सीबीआई ने इन सबकी एक संयुक्त चार्जशीट दाखिल की थी. सीबीआई के मुताबिक़ एक अक्तूबर 1990 को रथयात्रा के बाद सारी सभाएँ, भाषण और छह दिसम्बर को हुई समस्त घटनाएँ आपस में जुड़ी हैं और एक ही षड्यंत्र का हिस्सा हैं. स्पेशल कोर्ट ने इसी संयुक्त चार्जशीट के आधार पर आरोप निर्धारित किए थे. भड़काऊ भाषण वाले मामले में आडवाणी समेत आठों अभियुक्त पहले ही गिरफ़्तार हो गए थे. इन लोगों को ललितपुर के माताटीला बांध गेस्ट हाउस में रखा गया था. ललितपुर में स्पेशल कोर्ट बनाकर मुक़दमा शुरू हुआ था. बाद में यह केस रायबरेली ट्रांसफ़र हो गया. सीबीआई ने कोर्ट से अनुमति लेकर इस केस को भी अन्य मामलों के साथ जोड़ लिया था. राज्य सरकार ने केसलखनऊ स्पेशल कोर्ट को भेजा राज्य सरकार ने हाई कोर्ट से परामर्श किए बिना लखनऊ की स्पेशल कोर्ट की अधिसूचना संशोधित कर इस मामले को भी अयोध्या प्रकरण वाली लखनऊ की स्पेशल कोर्ट को दे दिया था. सभी बड़े नेता इस केस में अलग से नामज़द थे और क्रिमिनल रिवीज़न का यही मुख्य बिंदु था कि यह संशोधन ग़ैर-क़ानूनी था. जस्टिस जगदीश चंद्र भल्ला ने क़रीब चार साल बाद 12 फ़रवरी 2001 को अपने फ़ैसले में कहा कि निचली अदालत ने संयुक्त चार्जशीट के आधार पर आरोप तय करने में कोई ग़ैर-क़ानूनी काम नहीं किया, क्योंकि 'सभी आपराधिक घटनाएँ एक ही षड्यंत्र को पूरा करने के लिए की गई थीं.' हाईकोर्ट ने यह भी कहा कि पहली नज़र में एक षड्यंत्र और एक समान उद्देश्य के लिए ग़ैर-क़ानूनी जमावड़े का मामला बनता है. चूँकि यह सब कथित अपराध एक ही कृत्य के सिलसिले में घटित थे इसलिए स्पेशल कोर्ट ने इनका संज्ञान लेकर सही किया. लेकिन जस्टिस भल्ला ने कहा कि राज्य सरकार ने हाईकोर्ट से परामर्श किए बिना क्राइम नम्बर 198 यानी भड़काऊ भाषण वाले मामले को भी लखनऊ की स्पेशल कोर्ट को भेजने की जो अधिसूचना जारी की है वह त्रुटिपूर्ण है. कोर्ट ने कहा कि यह त्रुटि दूर करने लायक़ है और राज्य सरकार चाहे तो ऐसा कर सकती है. सीबीआई ने भारतीय जनता पार्टी की राजनाथ सिंह सरकार से त्रुटि दूर करने को लिखा लेकिन वहाँ से यह बात नामंज़ूर हो गई. राजनाथ सिंह के बाद मुलायम सिंह और मायावती सरकारों ने भी त्रुटि दूर करने से मना कर दिया. मोहम्मद असलम भूरे हाईकोर्ट के आदेश के ख़िलाफ़ सुप्रीम कोर्ट गए पर उनकी याचिका रद्द हो गई. लखनऊ स्पेशल कोर्ट के जज ने एक कदम आगे जाकर चार मई 2001 को भड़काऊ भाषण देने वाले केस के आठ बड़े अभियुक्तों के साथ-साथ कल्याण सिंह समेत तेरह अन्य प्रभावशाली अभियुक्तों के ख़िलाफ़ मामला ख़त्म कर दिया. आडवाणी पर चल रहा आपराधिक षड्यंत्र का मामला हटा इसके बाद ही इस केस का ट्रायल लखनऊ और रायबरेली दो जगह चलने लगा. आडवाणी वग़ैरह आठ बड़े लोगों के ख़िलाफ़ मामला रायबरेली में चल रहा था लेकिन कल्याण सिंह समेत 13 लोगों के ख़िलाफ़ कहीं नहीं. रायबरेली कोर्ट ने अकेले आडवाणी को बरी या डिस्चार्ज भी कर दिया. जोशी और अन्य बाक़ी लोगों की अपील पर हाईकोर्ट ने आडवाणी समेत आठों लोगों पर मुक़दमा चलाने को कहा. इस तरह आडवाणी आदि पर मस्जिद तोड़ने के आपराधिक षड्यंत्र का मामला ड्रॉप हो गया और केवल भड़काऊ भाषण का मामला बचा. जस्टिस भल्ला के आदेश के ख़िलाफ़ सुप्रीम कोर्ट में कोर्ट में अपील 29 नवंबर 2002 और 12 फरवरी 2008 को ख़ारिज हो गई. उधर सीबीआई के लखनऊ स्पेशल कोर्ट के जज ने चार मई 2001 को 21 अभियुक्तों के ख़िलाफ़ मामला ड्रॉप करने के ख़िलाफ़ हाईकोर्ट में रिवीज़न दाखिल किया. दस साल बाद 22 मई 2001 को हाईकोर्ट ने इसे ख़ारिज कर दिया. इस आदेश के ख़िलाफ़ सीबीआई सुप्रीम कोर्ट गई. सात साल बाद 19 अप्रैल 2017 को जस्टिस पिनाकी चंद्र घोष और जस्टिस आरएफ नरीमन की बेंच ने अपने जजमेंट में उल्लेख किया कि जस्टिस भल्ला ने संयुक्त चार्जशीट और ट्रायल को वैध ठहराया था जिसमें मस्जिद गिराने का षड्यंत्र शामिल था. कोर्ट ने आगे आदेश दिया कि रायबरेली में चल रहा मुक़दमा लखनऊ की स्पेशल कोर्ट में ट्रांसफ़र हो जाएगा. लखनऊ की स्पेशल सेशंस कोर्ट आडवाणी वग़ैरह के ख़िलाफ़ आईपीसी की धारा 120 (बी) के तहत अतिरिक्त चार्ज फ़्रेम करेगी. इस तरह क़रीब 23 साल बाद लखनऊ में फिर से संयुक्त ट्रायल शुरू हुआ. यह सारी देरी इसलिए हुई कि हाईकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट ने रिवीज़न और अपील पर फ़ैसला देने में सालों लगा दिए. 1994 में सुप्रीम कोर्ट की टिप्पणी इससे पहले एम इस्माइल फ़ारूक़ी ने अयोध्या में नरसिम्हा राव सरकार के भूमि अधिग्रहण को चुनौती दी थी. चीफ़ जस्टिस जेएस वर्मा की बेंच ने भूमि अधिग्रहण क़ानून को वैध ठहराते हुए बाबरी मस्जिद विध्वंस को "राष्ट्रीय शर्म" करार दिया था. कोर्ट ने कहा था, "दोपहर के आसपास बीजेपी, वीएचपी आदि के नेता राम जन्मभूमि बाबरी मस्जिद इमारत के ऊपर चढ़ गए और गुम्बदों को क्षतिग्रस्त करना शुरू कर दिया. वास्तव में यह राष्ट्रीय शर्म का कृत्य था. जिसका विध्वंस हुआ वह केवल एक पुरानी इमारत नहीं थी, बल्कि बहुसंख्यक द्वारा न्याय और निष्पक्षता पर भरोसा ( टूटा) था." 2019 में सुप्रीम कोर्ट की टिप्पणी पिछले साल अयोध्या भूमि विवाद में विवादित ज़मीन हिन्दुओं के पक्ष में देते हुए भी सुप्रीम कोर्ट ने मस्जिद तोड़ने पर कड़ी टिप्पणी की थी. कोर्ट ने कहा था कि मुस्लिम समुदाय का प्रार्थना स्थल ग़ैर-क़ानूनी तरीक़े से तोड़ा गया था. कोर्ट ने कहा था कि मुस्लिम समुदाय को मस्जिद की इमारत से जिस तरह वंचित किया गया था वैसा तरीक़ा विधि के शासन से प्रतिबद्ध एक धर्मनिरपेक्ष राष्ट्र में नहीं अपनाया जाना चाहिए था. कोर्ट ने याद दिलाया था कि संविधान में सभी धर्मों को समान मानने की व्यवस्था है. सहिष्णुता और सह-अस्तित्व से हमारे राष्ट्र और इसके लोगों का पोषण होता है. लिब्रहान जाँच आयोग को षड्यंत्र के सबूत मिले केंद्र सरकार ने बाबरी मस्जिद विध्वंस के लिए जस्टिस एमएस लिब्रहान की अध्यक्षता में एक न्यायिक जाँच आयोग बनाया था. इस आयोग ने 30 जून 2009 को अपनी रिपोर्ट में कहा था कि "बाबरी मस्जिद विध्वंस एक सुनियोजित घटना थी." आयोग ने भारतीय जनता पार्टी की त्रिमूर्ति - अटल बिहारी वाजपेयी, लाल कृष्ण आडवाणी और मुरली मनोहर जोशी समेत 68 लोगों को इसके लिए ज़िम्मेदार ठहराया था. इनमें आरएसएस, वीएचपी और बजरंग दल के नेता भी शामिल थे. सैकड़ों घंटों के ऑडियो-वीडियो टेप सुनने और गवाहों के बयान के बाद जस्टिस लिब्रहान की टिप्पणी थी, "एक क्षण के लिए भी यह नहीं सोच सकते कि आडवाणी, वाजपेयी और जोशी को संघ परिवार के इरादों की जानकारी नहीं थी." लेकिन आयोग ने सबसे ज़्यादा दोषी तत्कालीन मुख्यमंत्री कल्याण सिंह को बताया था. आयोग ने अपनी रिपोर्ट में कहा था कि इस आंदोलन को चलाने के लिए संघ परिवार को अज्ञात स्रोतों से धन मिला और इन संगठनों के खातों से भी दसियों करोड़ रुपए निकालकर छह दिसम्बर की घटना को अंजाम देने के लिए खर्च किए गए. इतने बड़े पैमाने पर धन खर्च करना इस बात का संकेत है कि आंदोलन के लिए जनमत बनाने और लोगों को संगठित करने से लेकर विध्वंस तक सब कुछ नियोजित था. आयोग के कहा था कि आरएसएस संगठन में सेना जैसा अनुशासन है और जिस तरह की व्यवस्था की गई थी उससे नहीं लगता कि यह सब केवल सांकेतिक कारसेवा के लिए था. आयोग ने कहा कि इन संगठनों के नेताओं का यह कहना सही नहीं कि कुछ उत्तेजित कारसेवकों ने यह सब अचानक किया. जिस तरह कुछ थोड़े से लोगों ने अपनी पहचान छिपाकर इतनी कम जगह में इमारत पर धावा बोला, मूर्तियों और दान पात्र को हटाया और अस्थायी मंदिर बनाकर उन्हें फिर स्थापित किया, उनके पास इमारत तोड़ने और अस्थायी मंदिर बनाने के औज़ार और संसाधन उपलब्ध थे, उससे यही निष्कर्ष निकलता है कि इसके लिए बड़ी मेहनत से तैयारी की गई और योजना बनायी गई. आयोग का निष्कर्ष है कि जिस काम में इतनी बड़ी संख्या में कारसेवकों की हर जगह ड्यूटी लगायी गयी, यह हो नहीं सकता कि जिनके पास सूचनाओं के अनेक स्रोत थे, उन मुख्यमंत्री कल्याण सिंह को इसके बारे में न पता हो. ऐसा नहीं हो सकता कि तत्कालीन संघ प्रमुख केएस सुदर्शन को न पता हो या विनय कटियार और अशोक सिंघल जैसे नेताओं को न पता हो. आयोग ने कहा कि "आरएसएस और वीएचपी का यह एक सूत्री एजेंडा था. कुछ मुट्ठी भर विचारकों और धार्मिक उपदेशकों ने आम जनता के दिलो-दिमाग़ को एक ऐसी उपद्रवी भीड़ में बदल दिया जिसने हाल के समय में सबसे दुष्टता पूर्ण कार्य को अंजाम दिया." "कुछ मुट्ठी भर बुरी नीयत वाले नेताओं ने बेशर्मी के साथ मर्यादा पुरुषोत्तम के नाम का इस्तेमाल कर के शांतिपूर्ण समुदायों को असहिष्णु झुंड में बदल दिया". अत्यंत कठोर शब्दों का इस्तेमाल करते हुए जस्टिस लिब्रहान ने लिखा कि "इस बात के पक्के सबूत मिले कि सत्ता और दौलत की लालच से बीजेपी, आरएसएस, वीएचपी, शिव सेना, बजरंगदल आदि में ऐसे नेता पैदा हुए जिन पर ना उनकी कोई विचारधारा और ना नैतिक मूल्यों का दबाव था". "इन नेताओं ने अयोध्या मुद्दे को अपनी सफलता के हाइवे के रूप में देखा और वह इस मार्ग पर तीव्र गति से दौड़ पड़े, बिना यह परवाह किए कि इससे रास्ते में चारों तरफ़ कितने लोग मारे जाएँगे." यह सब पढ़ने के बाद मन में यह सवाल उठना स्वाभाविक है कि जब लिब्रहान जाँच आयोग के पास सुनियोजित षड्यंत्र के प्रमाण आ गए थे तो वही प्रमाण और गवाह लखनऊ की स्पेशल कोर्ट के सामने भी थे तो दोनों के निष्कर्ष इतने अलग क्यों? स्पेशल कोर्ट को मस्जिद विध्वंस का न कोई षड्यंत्र दिखा, न पूर्व योजना दिखी और न ही "बाबरी मस्जिद का कलंक" मिटाने का आंदोलन चलाने वाले किसी नेता का हाथ दिखा. उल्टे कोर्ट की निगाह में वे मस्जिद को बचाने की कोशिश कर रहे थे. दरअसल, हर छोटी-बड़ी अदालत अपने निर्णय के लिए स्वतंत्र रूप से काम करती है. किसी जाँच आयोग के निष्कर्ष उस पर बाध्यकारी नहीं हैं, भले ही जाँच सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज ने की हो. जब कोई जज क्रिमिनल ट्रायल में बैठता है तो चार्ज फ़्रेम करने में उसे पहली नज़र में मामला बनता है या नहीं, यह देखना होता है. दोष सिद्ध करने के लिए उसे सबूतों को इस कसौटी पर तौलना होता है कि किसी मुलज़िम का जुर्म असंदिग्ध रूप से प्रमाणित होता है या नहीं. शक का लाभ हमेशा मुलज़िम को मिलता है. व्यंग्यात्मक लहजे में कुछ लोग यह भी कहने लगे हैं कि शायद मस्जिद अपना जीवनकाल समाप्त मानकर स्वयं ध्वस्त हो गयी और कुछ निर्दोष कारसेवक उसके नीचे दब गए. ऐसे में बाबरी मस्जिद को एक लीगल पर्सन मानकर उसके ख़िलाफ़ हत्या का मुक़दमा भी चलाया जा सकता है. सोशल मीडिया पर किसी का यह शेर भी खूब शेयर हो रहा है. "क़ातिल की यह दलील मुंसिफ़ ने मान ली, मकतूल ख़ुद गिरा था ख़ंजर की नोक पर."

Sunday, 4 October 2020

बंगाल के अकाल में 30 लाख से अधिक मौतें - 1943

From BBC Hindi..
जब मैं बच्ची थी तब मैंने पहली बार विंस्टन चर्चिल के बारे में पढ़ा था. एनिड ब्लॉयटन की एक किताब जो मैं पढ़ रही थी उसमें एक कैरेक्टर उनकी ज़बरदस्त प्रशंसक थी. वो उन्हें 'एक महान नेता मानती' थी. जैसे-जैसे मैं बड़ी होती गई वैसे-वैसे भारत के औपनिवेशिक इतिहास को लेकर होने वाली तमाम तरह की बातों का हिस्सा मैं बनी. मैंने पाया कि विंस्टन चर्चिल को लेकर हमारे देश में लोगों की राय अलग-अलग है. औपिनिवेशिक काल को लेकर भी लोगों की राय बंटी हुई है. कुछ लोग मानते हैं कि अंग्रे़ज़ों ने भारत के लिए बहुत कुछ किया. इसमें रेलवे के निर्माण से लेकर डाक सेवाएं जैसे काम शामिल हैं तो कुछ मेरी दादी की तरह मानते हैं कि, "ये सब उन्होंने अपने फ़ायदे के लिए किया और भारत को ग़रीब और लूट-खसोट कर छोड़ दिया." मेरी दादी हमेशा बड़े चाव से बताती थीं कि कैसे उन्होंने 'क्रूर ब्रितानियों' के ख़िलाफ़ आंदोलन में हिस्सा लिया था. लेकिन इस आक्रोश के बावजूद लोगों में पश्चिमी चीज़ों और गोरों की कही गई बात और उनके द्वारा कुछ भी किए जाने को लेकर उनके प्रति एक उच्चता का बोध रहता था. दशकों तक रहे औपनिवेशिक शासन व्यवस्था के अंतर्गत लोगों का आत्मविश्वास बिल्कुल ख़त्म हो गया था. आज़ादी के बाद के 73 सालों में बहुत कुछ बदल गया है. दुनिया में अपनी जगह को लेकर आत्मविश्वास से भरी नई पीढ़ी अब सवाल कर रही है कि क्यों 1943 के बंगाल के अकाल जैसे औपनिवेशिक इतिहास के काले अध्यायों को लेकर और विस्तार से जानकारी उपलब्ध नहीं है. इस अकाल के दौरान क़रीब तीस लाख लोग भूख से मारे गए थे. यह तादाद दूसरे विश्व युद्ध में ब्रिटिश सम्राज्य के अंदर मारे गए लोगों से क़रीब छह गुना ज़्यादा है.
लेकिन हर साल युद्ध की जीत और उसमें हुए नुक़सान को तो याद किया जाता है लेकिन दूसरे विश्व युद्ध के दौरान ही ब्रितानी हुकूमत वाले बंगाल में हुई इतनी बड़ी मानवीय त्रासदी को लगभग भुला दिया जाता है. प्रत्यक्षदर्शी उस दौर को याद करते हुए बताते हैं कि कैसे खेतों में लाशें पड़ी हुई थीं. नदियों में मरे हुए लोगों की लाशें तैर रही थीं और कैसे कुत्ते और गिद्ध लाशों को नोचकर खा रहे थे. इतने बड़े पैमाने पर किसी की भी न हिम्मत थी उन लाशों के अंतिम क्रिया क्रम करने की और ना ही सामर्थ्य. जो गांवों में बच गए थे, वो खाने की तलाश में क़स्बों और शहरों की ओर भाग रहे थे. बंगाल के मशहूर अभिनेता सौमित्र चटर्जी बंगाल के अकाल के वक़्त आठ साल के थे. वो बताते हैं, "हर कोई कंकाल की तरह नज़र आता था. लगता था मानो किसी ने कंकाल को चमड़ा पहना दिया है." वो बताते हैं, "लोग बेसहाय होकर रोते हुए चावल से निकलने वाला पानी (माड़) मांगते थे क्योंकि उन्हें पता होता था कि किसी के पास दूसरे को देने के लिए चावल नहीं है. जिस किसी ने भी वो दयनीय आवाज़ अपनी ज़िंदगी में सुनी है, वो कभी भी उस आवाज़ को भूल नहीं पाया. अभी उस दौर की बात करते हुए मेरे आंखों में आंसू आ गए हैं और मैं ख़ुद को रोक नहीं पा रहा हूँ." चर्चिल की कैबिनेट पर क्या हैं आरोप? 1942 में तूफ़ान और बाढ़ के आने की वजह से ये अकाल पड़ा था. लेकिन विंस्टन चर्चिल और उनकी कैबिनेट के ऊपर इसे और बदतर स्थिति में लाने का इल्ज़ाम लगाया जाता है. ऑक्सफ़ोर्ड यूनिवर्सिटी की इतिहासकार यास्मीन ख़ान बताती हैं कि बर्मा से जापानियों के घुसपैठ के ख़तरे को देखते हुए 'नज़रअंदाज़ करने की नीति' अपनाई गई थी. वो बताती हैं, "इसके पीछे सोच यह थी कि फ़सल समेत सभी चीज़ों को ख़त्म कर दिया जाए. यहाँ तक कि जो नावें फ़सलों को ले जाने में इस्तेमाल होती हैं, उन्हें भी बर्बाद कर दिया जाए ताकि जापानी जब आएं तो उनके पास आगे बढ़ने के लिए कोई भी संसाधन ना हो. इसकी नीति का असर यह हुआ कि अकाल और विकराल रूप में सामने आया." ब्रितानी अधिकारियों की डायरी से पता चलता है कि चर्चिल प्रशासन भारत अनाज निर्यात करने की मांग को इस डर से खारिज कर दिया कि कहीं ब्रिटेन के भंडार में कमी ना आ जाए. चर्चिल का मानना था कि स्थानीय नेता भुखमरी को दूर करने में ज़्यादा मदद कर सकते हैं. इन बातों से तब के ब्रितानी प्रधानमंत्री के भारत के प्रति रवैये का पता चलता है. भारत के लिए नियुक्त मंत्री लियोपोल्ड एमेरी के मुताबिक़, एक बार चर्चिल ने अकाल के दौरान मदद करने को लेकर होने वाले विचार-विमर्श के दौरान कहा था कि भारत के लिए कोई भी मदद नाकाफ़ी होगी क्योंकि "भारतीय खरगोश की तरह बच्चे पैदा करते हैं."
यास्मीन ख़ान कहती हैं, "हम उन्हें अकाल के लिए किसी भी तरह से दोषी नहीं ठहरा सकते हैं लेकिन हम कह सकते हैं कि सक्षम होने के बावजूद उन्होंने राहत पहुँचाने की कोशिश नहीं की और उन्होंने गोरों की ज़िंदगी को दक्षिण एशियाई लोगों की ज़िंदगी के ऊपर तरजीह दी. यह वाकई में अन्यायपूर्ण था क्योंकि उस वक़्त लाखों भारतीय सैनिक दूसरे विश्व युद्ध में लड़ रहे थे." ब्रिटेन में कुछ लोग दावा करते हैं कि चर्चिल ने भले ही भारत के बारे में अशोभनीय टिप्पणी की होगी लेकिन उन्होंने मदद करने की कोशिश ज़रूर की थी. युद्ध की वजह से इसमें देरी हुई. सच तो यही है कि लाखों लोग उनकी नज़र के सामने खाने के लिए तरसते हुए मारे गए. उस वक़्त आर्चीबैल्ड वैवेल भारत के वायसराय थे. उन्होंने बंगाल के अकाल को ब्रितानी हुकूमत के अंदर होने वाली सबसे बड़ी त्रासदियों में बताया था. उन्होंने कहा कि इससे जो ब्रितानी साम्राज्य की छवि को जो नुकसान हुआ है, उसकी भारपाई नहीं की जा सकती. सौमित्र चटर्जी कहते हैं, "लोगों को उम्मीद है कि यह वक़्त ब्रिटिश सरकार के सामने आकर उन दिनों जो कुछ भी भारत के साथ हुआ, उसके लिए माफ़ी मांगने का है." ब्रिटेन में भी बहुत सारे लोग औपनिवेशिक काल और उस समय के नेताओं पर सवाल कर रहे हैं. पिछले महीने ब्लैक लाइव्स मैटर प्रोटेस्ट के दौरान मध्य लंदन में चर्चिल की प्रतिमा पर कालिख पोत दी गई. भारतीय इतिहासकार रुद्रांग्शु मुखर्जी कहते हैं, "मैं प्रतिमाओं को गिराने या उनको कालिख पोते जाने के पक्ष में नहीं हूँ. लेकिन मुझे लगता है कि मूर्तियों के नीचे जो विवरण प्लेट होता है, उस पर पूरा इतिहास दर्ज होना चाहिए. चर्चिल दूसरे विश्व युद्ध के नायक थे लेकिन वो 1943 में बंगाल में आए अकाल के दौरान मारे गए लाखों लोगों के लिए भी ज़िम्मेवार थे. मुझे लगता है कि यह ब्रिटेन को भारतीयों और ख़ुद के लिए भी करना चाहिए." ये भी पढ़ें: वह गुप्त मीटिंग जिसमें हिटलर को हराने की योजना बनी अतीत को वर्तमान के मापदंड पर परखने पर हमारी दुनिया में कोई नायक नहीं बचेगा. भारत की आज़ादी की लड़ाई के सबसे बड़े नेता महात्मा गांधी पर भी कालों के ख़िलाफ़ राय रखने के आरोप हैं. लेकिन पूरा सच स्वीकार किए आगे बढ़ना भी मुश्किल है. मेरे बचपन की पसंदीदा लेखिका एनिड ब्लॉयटन की किताबों की भी नस्लवादी और सेक्सिस्ट कहकर जमकर आलोचना हुई है. आज एक व्यस्क के रूप में मैं अपने मां-बाप के घर में किसी कोने में पड़ी उन किताबों को जब देखती हूँ तो मुझे वो आरोप सही भी लगते हैं लेकिन क्या मैं उन्हें फेंक दूँ? नहीं. उससे जुड़ी जो ख़ुशनुमा यादें हैं, वो अब मैं जो जानती हूँ उससे अछूती हैं. लेकिन मैं उन किताबों को अपने परिवार में बच्चों को नहीं दूँगी. उनके पास अब कहीं अधिक बराबरी वाली दुनिया की कहानियाँ पढ़ने का अवसर है.

Tuesday, 29 September 2020

एमनेस्टी इंटरनेशल ने भारत में काम क्यों समेटा?

from BBC Hindi ... ... https://www.bbc.com/hindi/india-54336302 ... ... अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार संस्था एमनेस्टी इंटरनेशनल ने भारत में अपना काम बंद करने की घोषणा की है. उसने ये फ़ैसला हाल ही में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के संस्था के खातों को फ़्रीज़ करने के बाद किया है. ईडी ने सीबीआई की ओर से पिछले साल दर्ज एक एफ़आईआर के बाद अलग से जाँच शुरू की थी. एमनेस्टी पर विदेशी चंदा लेने के बारे में बने क़ानून एफ़सीआरए के उल्लंघन का आरोप लगाया गया था. एमनेस्टी ने एक बयान में अपना काम बंद करने के लिए "सरकार की बदले की कार्रवाई" को ज़िम्मेदार बताया है. .. .. भारत सरकार ने अभी इस पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है. .. .. एमनेस्टी ने अपने बयान में कहा है, "10 सितंबर को एमनेस्टी इंटरनेशल इंडिया को पता चला कि ईडी ने उसके सारे बैंक खातों को फ़्रीज़ कर दिया है, जिससे मानवाधिकार संस्था के अधिकतर काम ठप हो गए हैं." ... ... उसने आगे लिखा है, "ये मानवाधिकार संगठनों के ख़िलाफ़ भारत सरकार की ओर से बेबुनियाद और ख़ास मक़सद से लगाए गए आरोपों के आधार पर चलाए जा रहे अभियान की एक ताज़ा कड़ी है." FCRA: मोदी सरकार ने छह सालों में क्या NGO के लिए एक मुश्किल दौर बनाया है? एमनेस्टी के एक वरिष्ठ अधिकारी रजत खोसला ने बीबीसी से कहा, "हम भारत में एक अभूतपूर्व परिस्थिति का सामना कर रहे हैं. हमें सरकार की ओर से एक व्यवस्थित तरीक़े से लगातार हमलों, दादागिरी और परेशानी का सामना करना पड़ रहा है और ये केवल इसलिए हो रहा है कि हम मानवाधिकार से जुड़े काम कर रहे हैं और सरकार हमारे उठाए सवालों का जवाब नहीं देना चाह रही है, वो चाहे दिल्ली दंगों को लेकर हमारी पड़ताल हो या जम्मू-कश्मीर में लोगों की आवाज़ों को ख़ामोश करना." सरकार पर उठाए थे सवाल एमनेस्टी ने पिछले महीने एक रिपोर्ट में कहा था कि फ़रवरी में दिल्ली में हुए दंगों में मानवाधिकारों का उल्लंघन हुआ था. दिल्ली पुलिस ने रिपोर्ट का खंडन करते हुए अख़बार द हिंदू से कहा था कि एमनेस्टी की रिपोर्ट "एकतरफ़ा, पक्षपाती और विद्वेषपूर्ण" है. इस साल अगस्त में जम्मू-कश्मीर के विशेष दर्जे को ख़त्म किए जाने के एक साल पूरा होने पर एमनेस्टी ने हिरासत में रखे गए सभी नेताओं, कार्यकर्ताओं और पत्रकारों को रिहा किए जाने और सामान्य इंटरनेट सेवा बहाल करने की माँग की थी. ... ... 2019 में एमनेस्टी ने अमरीका में विदेश मामलों की एक समिति के सामने दक्षिण एशिया में मानवाधिकारों की स्थिति पर सुनवाई के दौरान कश्मीर के बारे में अपनी पड़ताल को पेश किया था. एमनेस्टी बार-बार ये कहते हुए सरकार की आलोचना करती रही है कि भारत में असंतोष का दमन किया जा रहा है. 2016 के अगस्त में, एमनेस्टी इंडिया के ख़िलाफ़ ये आरोप लगाते हुए देशद्रोह का मामला दर्ज किया गया था कि उसके एक कार्यक्रम में भारत विरोधी नारे लगे. तीन साल बाद, एक अदालत ने इन आरोपों को ख़ारिज कर दिया था. 2018 के अक्तूबर में एमनेस्टी के बेंगलुरू स्थित दफ़्तरों पर ईडी ने छापा मारा था. तब भी उसके खाते फ़्रीज़ कर दिए गए थे, लेकिन एमनेस्टी ने कहा कि अदालत के हस्तक्षेप के बाद उसे खाते से लेन-देन की मंज़ूरी मिल गई. फिर 2019 में संस्था के अनुसार उसके दर्जनों चंदा देने वालों को इनकम टैक्स विभाग की ओर से नोटिस भेजा गया. इसी साल उसके दफ़्तरों पर फिर छापे पड़े, लेकिन इस बार ये छापे सीबीआई ने मारे. एमनेस्टी इंटरनेशनल को इससे पहले कांग्रेस की अगुआई वाली गठबंधन सरकार के कार्यकाल में भी मुश्किल हुई थी. 2009 में भी उसने भारत में अपना काम स्थगित कर दिया था. तब संस्था का कहना था कि विदेशों से चंदा लेने के लिए उसका लाइसेंस बार-बार रद्द किया जा रहा था. .. .. .. .. विदेशी चंदा भारत में पिछले कई सालों से विदेशी चंदा लेने को लेकर बने नियमों को सख़्त किया जाता रहा है और हज़ारों ग़ैर-सरकारी संगठनों पर विदेशों से चंदा लेने पर पाबंदी लगाई गई है. मौजूदा मोदी सरकार ने पहले कहा था कि एमनेस्टी के ख़िलाफ़ विदेशी चंदा लेने के क़ानून का उल्लंघन करने के संदेह में जाँच की जा रही है. एमनेस्टी के अधिकारी रजत खोसला कहते हैं, "ये सफ़ेद झूठ है. एमनेस्टी इंडिया ने सभी घरेलू और क़ानूनी शर्तों का पालन किया है." उन्होंने कहा, "ऐसे क़दमों से भारत अच्छे देशों के समूह से अलग दिखता है. हम 70 से ज़्यादा देशों में काम कर रहे हैं, और इससे पहले किसी और देश में अगर हमने काम बंद किया है तो वो 2016 में रूस में किया था. " "मुझे उम्मीद है दुनिया भर में लोग इसे ध्यान से देखेंगे. हम ये फ़ैसला बहुत ही बोझिल दिल से और क्षुब्ध और दुखी होते हुए कर रहे हैं." एमनेस्टी ने कहा है कि वो भारत में अपने मुक़दमों को लड़ना जारी रखेगी.
... .... .... ... From BBC Hindi

Thursday, 24 September 2020

कोरोना वायरस के कारण चार सांसदों और कई विधायकों की गई जान

https://www.bbc.com/hindi/india-54276634 From BBC Hindi कोरोना वायरस के कारण बुधवार को केंद्रीय रेल राज्य मंत्री सुरेश अंगड़ी का एम्स में निधन हो गया. 11 सितंबर को कोरोना पॉज़िटिव रिपोर्ट आने के बाद उन्हें एम्स में भर्ती कराया गया था. सुरेश अंगड़ी 65 साल के थे. भारत में कोरोना वायरस से संक्रमण के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं. अब तक कोरोना वायरस के कारण गुरुवार सुबह तक 91,149 लोगों की मौत हो चुकी है और 5,732,519 लोग वायरस से संक्रमित हैं. इनमें से 9,66,382 एक्टिव मामले हैं. सुरेश अंगड़ी की तरह कोरोना वायरस ने कई जनप्रतिनिधियों की जान ली है. पूर्व राष्ट्रपति, चार सांसद और कई विधायक इसके कारण अपनी जान गंवा चुके हैं. इसमें सबसे बड़ा नाम पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी का है. वो सेना के आर एंड आर अस्पताल में ब्रेन सर्जरी के लिए भर्ती हुए थे जहां वो कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए. संक्रमण के चलते उनकी हालत और बिगड़ गई और 31 अगस्त को उनकी मौत हो गई. 16 सिंतबर को आंध्र प्रदेश में तिरुपति से सांसद बल्ली दुर्गा प्रसाद की चेन्नई के अपोलो अस्पताल में कोरोना संक्रमण के चलते मौत हो गई थी. बल्ली दुर्गा प्रसाद युवजन श्रमिक रायथू कांग्रेस पार्टी से थे. उनके निधन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी दुख जताया था. 64 साल के दुर्गा प्रसाद नेल्लूर में गुडुर से विधायक रह चुके थे. इसी दौरान राज्यसभा सांसद अशोक गस्ती का भी कोरोना वायरस के चलते निधन हो गया. अशोक गस्ती बीजेपी के कर्नाटक से सांसद थे. अशोक गस्ती हाल ही में राज्यसभा सांसद चुने गए थे और वह एक बार भी संसद नहीं पहुंचे थे. 55 साल के अशोक गस्ती को मल्टी ऑर्गन फ़ेलियर की दिक़्क़त हो गई थी और वो लाइफ़ सपोर्ट पर थे. इससे पहले 28 अगस्त को तमिलनाडु के कन्याकुमारी से कांग्रेस सांसद एच वसंतकुमार चल बसे थे. 70 साल के वसंतकुमार को कोरोना वायरस से संक्रमित होने के चलते 10 अगस्त को चेन्नई में भर्ती कराया गया था. इसके अलावा यूपी, मध्य प्रदेश, पश्चिम बंगाल और तमिलनाडु में कई विधायकों की कोरोना वायरस के कारण मौत हो गई है. उत्तर प्रदेश में एक महीने में ही दो मंत्रियों की जान चली गई. योगी आदित्यनाथ कैबिनेट में एकमात्र महिला मंत्री कमल रानी वरुण की कोरोना वायरस के कारण मौत हो गई थी. कमल रानी वरुण यूपी की तकनीकी शिक्षा मंत्री थीं. उनके बाद क्रिकेटर से नेता बने नागरिक सुरक्षा मंत्री चेतन चौहान भी कोरोना वायरस के कारण जान गंवा बैठे. चेतन चौहान को वेंटिलेटर पर रखना पड़ा था क्योंकि वायरस के चलते उनकी किडनी में समस्या आ गई थी. इसी दौरन मध्य प्रदेश से कांग्रेसी विधायक गोवर्धन डांगी की 15 सितंबर को कोरोना वायरस के कारण मौत हो गई थी. गोवर्धन डांगी राजगढ़ में ब्यावरा से विधायक थे. पश्चिम बंगाल में टीएमसी विधायक समरेश दास और पार्टी में उनके सहकर्मी तमोनाश घोष की भी कोरोना वायरस के कारण मौत हो गई थी. पूर्वी मिदनापुर में एगरा से विधायक समरेश दास 76 साल के थे और उन्हें किडनी संबंधी दिक़्क़त हो गई थी. 60 साल के तमोनाश घोष दक्षिण 24 परगना ज़िले में फाल्टा से विधायक थे. वहीं, तमिलनाडु में डीएमके नेता जे अंबाझगन की जून में कोरोना वायरस के कारण जान चली गई थी. अंबाझगन चेपुक-तिरुवल्लीकेनी से विधायक थे. इसके अलावा लेह से वरिष्ठ कांग्रेसी नेता और पूर्व मंत्री पी नामग्याल की भी जून में मौत हो गई. वो मौत के बाद कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए थे. 83 साल के पी नामग्याल राजीव गांधी सरकार में मंत्री रहे थे. इसी महीने महाराष्ट्र के सांसद हरिभाऊ जावले भी कोरोना वायरस के कारण चल बसे. पुणे में पंढारपुर से पाँच बार विधायक रहे सुधारक परिचारक की भी अगस्त में कोरोना वायरस के कारण मृत्यु हो गई. 76 साल के सीपीआईएम नेता श्यामल चक्रबर्ती की भी कोविड-19 के चलते मौत हो गई. वह परिवहन मंत्री रह चुके हैं. गृह मंत्री अमित शाह भी कोरोना पॉज़िटिव पाए गए थे लेकिन इलाज़ के बाद वो ठीक हो गए थे. गृह मंत्री अमति शाह, केंद्रीय सड़क परिवहन एंड राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी, हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर, मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया, स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन, आप विधायक आतिशी मार्लेना और महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री व पीडब्ल्यू मंत्री अशोक चव्हाण भी कोरोना वायरस से संक्रमित हो चुके हैं. लेकिन इन सभी नेताओं ने कोरोना को मात दी और स्वस्थ होकर घर लौटे. दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया को बुधवार की रात एक बार फिर अस्पताल में भर्ती कराया गया है. दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया भी कोरोना पॉज़िटिव हैं और उनका इलाज़ चल रहा है. इनके अलावा पूर्व केंद्रीय मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल के वरिष्ठ नेता रघुवंश प्रसाद सिंह को भी जून में कोरोना वायरस का संक्रमण हुआ था. हालांकि, वो कोरोना से ठीक हो गए थे लेकिन, कई और परेशानियों के चलते 13 सितंबर को उनका निधन हो गया.

Thursday, 20 August 2020

From BBC.....स्वामीनाथन नटराजन बीबीसी वर्ल्ड सर्विस....

हाथी की सूंइमेज कॉपीरइटSANGITA IYER Image caption संगीता अय्यर कहती हैं जैसे ही उन्होंने हथिनी लक्ष्मी को देखा उन्हें उससे प्यार हो गया गुजरे सात सालों से संगीता अय्यर धर्म के नाम पर हाथियों के उत्पीड़न को ख़त्म करने के मिशन पर हैं. वे बीबीसी को बताती हैं, "किस तरह के ईश्वर अपनी ही बनाई गई चीज़ के साथ इस तरह का दुर्व्यवहार बर्दाश्त कर सकता है? यह बेहद परेशान करने वाला है." केरल में पैदा हुईं और अब टोरोंटो रह रहीं अय्यर डॉक्युमेंट्री बनाती हैं. वे कहती हैं कि बहुत सारे दूसरे बच्चों की तरह से ही उन्हें भी हाथी देखना अच्छा लगता था. संगीता अय्यर कहती हैं, "जब मैं छोटी थी तो मैं हाथियों की परेड देखा करती थी और मुझे वो बहुत अच्छा लगता था." बाद में उन्हें पता चला कि समारोहों में इस्तेमाल होने वाले हाथियों को कितने दर्द से गुजरना पड़ता है.