welcome હાર્દીક સ્વાગત Welcome

આ બ્લોગ ઉપર આવવા બદલ આપનું હાર્દીક સ્વાગત છે.

આ બ્લોગ ઉપર સામાન્ય રીતે ઉંઝા સમર્થક લખાંણ હોય છે જેમાં હ્રસ્વ ઉ અને દીર્ઘ ઈ નો વપરાશ હોય છે.

આપનો અભીપ્રાય અને કોમેન્ટ જરુર આપજો.



https://www.vkvora.in
email : vkvora2001@yahoo.co.in
Mobile : +91 98200 86813 (Mumbai)
https://www.instagram.com/vkvora/

Wednesday, 11 December 2019

जब खाया नहीं जाता, तो इतना तीखा खाते क्यों हैं हम?

जब खाया नहीं जाता, तो इतना तीखा खाते क्यों हैं हम?








पिछले साल एक अमरीकी अस्पताल के इमरजेंसी रूम में एक व्यक्ति को भर्ती कराया गया. डॉक्टर ये पता लगाने की कोशिश कर रहे थे कि उसे आख़िर हुआ क्या है. वो व्यक्ति तेज़ सर दर्द, गर्दन में दर्द से तड़प रहा था और उसे बार-बार उल्टी आ रही थी.
सीटी स्कैन, पेशाब की जांच, ब्लड प्रेशर जांच और शारीरिक जांच करने के बाद डॉक्टरों को पता चला कि उस व्यक्ति पर ज़हर का असर नहीं था और ना ही उसे कोई रहस्यमयी बीमारी थी, बल्कि उसने एक बहुत ही तीखी मिर्ची खा ली थी.
मिर्ची की जो किस्म उन्होंने खाई थी, उसका नाम है "कैरोलिना रीपर" (ये जेलापीनो पेपर से 275 गुना ज़्यादा तीखी है). 34 साल के इस शख़्स ने एक प्रतियोगिता में ये मिर्च खाने का फ़ैसला किया था.
ये मिर्च खाने की वजह से उनके दिमाग़ की धमनियां सिकुड़ने लगी थीं, लेकिन क़िस्मत से वो बच गए और बाद में पूरी तरह ठीक हो गए.




शहर जहां अकबर पैदा हुए और राणा रतन सिंह को फांसी हुई





No comments:

Post a comment

કોમેન્ટ લખવા બદલ આભાર