welcome હાર્દીક સ્વાગત Welcome

આ બ્લોગ ઉપર આવવા બદલ આપનું હાર્દીક સ્વાગત છે.

આ બ્લોગ ઉપર સામાન્ય રીતે ઉંઝા સમર્થક લખાંણ હોય છે જેમાં હ્રસ્વ ઉ અને દીર્ઘ ઈ નો વપરાશ હોય છે.

આપનો અભીપ્રાય અને કોમેન્ટ જરુર આપજો.



https://www.vkvora.in
email : vkvora2001@yahoo.co.in
Mobile : +91 98200 86813 (Mumbai)
https://www.instagram.com/vkvora/

Sunday, 21 June 2020

भारत-चीन सीमा तनाव पर अब अमरीकी राष्ट्रपति ट्रंप ने दिया बयान

भारत-चीन सीमा तनाव पर अब अमरीकी राष्ट्रपति ट्रंप ने दिया बयान



From  BBC  HINDI



अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा है कि वो भारत और चीन के बीच जारी तनाव पर नज़र रखे हुए हैं और मदद करना चाहते हैं.
ट्रंप ने कहा है कि अमरीका भारत और चीन से बातचीत कर रहा है.
राष्ट्रपति ट्रंप ने व्हाइट हाउस के बाहर पत्रकारों से कहा, "ये बहुत मुश्किल परिस्थति है. हम भारत से बात कर रहे हैं. हम चीन से भी बात कर रहे हैं. वहां उन दोनों के बीच बड़ी समस्या है. दोनों एक दूसरे के सामने आ गए हैं और हम देखेंगे कि आगे क्या होगा. हम उनकी मदद करने की कोशिश कर रहे हैं."
15-16 जून की रात गलवान घाटी में भारत और चीन के बीच हुए हिंसक संघर्ष में भारत के कमांडिंग ऑफ़िसर समेत बीस सैनिक मारे गए थे. चीन के भी कई सैनिकों के हताहत होने की ख़बर है लेकिन चीन ने आधिकारिक आंकड़ा जारी नहीं किया है.
भारत और चीन के बीच मौजूदा तनाव को देखते हुए अमरीकी राष्ट्रपति ने बीते महीने सोशल मीडिया पर कहा था कि वो भारत और चीन के बीच मध्यस्थता करने को तैयार हैं.
एक ट्वीट में ट्रंप ने कहा था, "हमने भारत और चीन दोनों को सूचित कर दिया है कि उनके सीमा विवाद पर अमरीका मध्यस्थता करने को इच्छुक और समर्थ है."
राष्ट्रपति ट्रंप ने ये भी कहा था कि चीन के साथ तनाव को लेकर भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का मूड ख़राब है.
हालांकि ट्रंप के मध्यस्थता के प्रस्ताव को भारत और चीन दोनों ने ही नकार दिया था.
भारत और चीन के बीच तनाव पर अमरीका नज़र रखे हुए है. हाल ही में अमरीका के विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने ट्वीट कर भारत के साथ संवेदना जताई थी.
माइक पोम्पियो ने कहा था, "हम चीन के साथ हाल में हुए संघर्ष की वजह से हुई मौतों के लिए भारत के लोगों के साथ गहरी संवेदना जताते हैं. हम इन सैनिकों के परिवारों, उनके आत्मीय जनों और समुदायों का स्मरण करेंगे. ऐसे समय जब वो शोक मना रहे हैं."








No comments:

Post a comment

કોમેન્ટ લખવા બદલ આભાર