welcome હાર્દીક સ્વાગત Welcome

આ બ્લોગ ઉપર આવવા બદલ આપનું હાર્દીક સ્વાગત છે.

આ બ્લોગ ઉપર સામાન્ય રીતે ઉંઝા સમર્થક લખાંણ હોય છે જેમાં હ્રસ્વ ઉ અને દીર્ઘ ઈ નો વપરાશ હોય છે.

આપનો અભીપ્રાય અને કોમેન્ટ જરુર આપજો.



https://www.vkvora.in
email : vkvora2001@yahoo.co.in
Mobile : +91 98200 86813 (Mumbai)
https://www.instagram.com/vkvora/

Friday, 3 January 2020

साचुं...? खोटुं...? राम जाणे... ? साउदी अरेबीया, ईरान ईराक अने अमेरीका....हुमला उपर हुमला.... बधुं बीबीसी अंग्रेजी अने हींन्दी मांथी

साचुं...?  खोटुं...?  राम जाणे... ? साउदी अरेबीया, ईरान ईराक अने अमेरीका....हुमला उपर हुमला.... बधुं बीबीसी अंग्रेजी अने हींन्दी मांथी

https://www.nytimes.com/interactive/2019/09/16/world/middleeast/trump-saudi-arabia-oil-attack.html

https://www.bbc.com/news/world-middle-east-50989745

https://www.bbc.com/news/world-middle-east-50980704

https://www.bbc.com/news/world-middle-east-24316661

सुलेमानी की मौत से भारत में बढ़ेगी तेल की क़ीमत?

https://www.bbc.com/hindi/india-50985174


जनरल सुलेमानी के पीछे क्यों पड़ा था अमरीका?

https://www.bbc.com/hindi/international-50985050


https://www.bbc.com/hindi/international-50980009

जनरल क़ासिम सुलेमानी की मौत मध्य-पूर्व में कितना बड़ा टर्निंग पॉइंट?


वहीं ईरान में तीन दिन का शोक घोषित करते हुए देश के सर्वोच्च धार्मिक नेता आयतोल्लाह अली ख़मेनेई ने कहा कि 'इस हमले के अपराधियों से गंभीर बदला' लेने का इंतज़ार है.
..
..
..
अमरीका के लिए उनका मारा जाना इतनी बड़ी बात थी कि ख़ुद राष्ट्रपति ट्रंप ने ट्वीट किया जिसमें केवल अमरीकी राष्ट्रध्वज की तस्वीर थी - यानी इस घटना को एक तरह से राष्ट्रपति ट्रंप अमरीका का राष्ट्रीय गौरव की तरह पेश कर रहे थे.

..
..
..


नवभारत टाईम्स हींन्दी ....
सरकार के लिए भी टेंशन 
प्रभुदास लीलाधर के सीईओ-पीएमएस अजय बोडके ने कहा, 'अमेरिकी हमले में कासिम सुलेमानी के मारे जाने की खबर बहुत महत्वपूर्ण है। वह ईरान के सबसे बड़े नेता के बेहद करीबी थे। ईरान निश्चित तौर पर जवाबी कार्रवाई करेगा। इससे तेल की कीमतों में उबाल आएगा। यह तेल आयात करने वाले देशों के लिए बुरी खबर है। खासतौर पर भारत जैसे देश जो बड़े व्यापार और चालू खाते का घाटा का सामना कर रहे हैं।' 

ईरान के कुद्स फोर्स के मुखिया सुलेमानी पर अमेरिका ने उस समय हमला किया जब उनका काफिला इराक में बगदाद एयरपोर्ट की ओर बढ़ रहा था। ईरान के सर्वोच्च नेता अयातुल्ला खामेनेई ने कहा है कि सुलेमानी के हत्यारों को इसका कड़ा जवाब दिया जाएगा। 
..
..









क़ासिम सुलेमानी की हत्या के बाद इराक़ में क्या हो रहा है?



ईरान के सैन्य कमांडर जनरल क़ासिम सुलेमानी के जनाज़े में शामिल होने के लिए इराक़ की राजधानी बग़दाद में लोगों की भारी भीड़ सड़कों पर उतर आई है.
गुरुवार को अमरीकी हमले में क़ासिम सुलेमानी की मौत हो गई थी. बग़दाद हवाई अड्डे के बाहर हुए हवाई हमले में सुलेमानी समेत पाँच ईरानी और पाँच इराक़ी लोग मारे गए थे.
सुलेमानी ईरान की बहुचर्चित कुद्स फ़ोर्स के प्रमुख थे. यह फ़ोर्स ईरान द्वारा विदेशों में चल रहे सैन्य ऑपरेशनों को अंजाम देने के लिए जानी जाती है.
सुलेमानी ने वर्षों तक लेबनान, इराक़, सीरिया समेत अन्य खाड़ी देशों में योजनाबद्ध हमलों के ज़रिये मध्य-पूर्व में ईरान और उसके सहयोगियों की स्थिति को मज़बूत करने का काम किया था.
सुलेमानी को पश्चिम एशिया में ईरानी गतिविधियों को चलाने का प्रमुख रणनीतिकार माना जाता रहा. उनकी मौत के बाद ये माना जा रहा है कि ईरान इसका बदला ज़रूर लेगा.

https://www.bbc.com/news/in-pictures-51007585

 President Donald Trump has faced growing criticism over his threats to attack Iran's cultural sites.
Mr Trump made the threats amid fallout from the US assassination of Iranian commander Qasem Soleimani.
The president said cultural sites were among 52 identified Iranian targets that could be attacked if Iranians "torture, maim and blow up our people".
But the UN's cultural organisation and UK foreign secretary were among those to note that such sites were protected.
The US and Iran have signed conventions to protect cultural heritage, including during conflict. Military attacks targeting cultural sites are considered war crimes under international law.
Qasem Soleimani was killed in a US drone strike in Baghdad on Friday on the orders of Mr Trump. The killing has sharply increased regional tensions, with Iran threatening "severe revenge".







From  BBC  copyright


ईरान-अमरीका में जंग हुई तो भारत पर कितना बुरा असर होगा?









No comments:

Post a comment

કોમેન્ટ લખવા બદલ આભાર